28 C
Lucknow
Wednesday, July 17, 2024

आला अफसर को रोकने का मिला ईनाम

1

यातायात पुलिस के एक कांस्टेबल ने पुणे में अपने वरिष्ठ अधिकारी को सीट बेल्ट न बांधने के लिए रोक लिया.

 

बिना सीट बेल्ट बांधे कार चला रहे अपने वरिष्ठ अधिकारी को रोकने पर यातायात पुलिस के इस कांस्टेबल को वाहवाही तो मिली ही, ईनाम से भी नवाजा गया.

कांस्टेबल उमेश देवकर आम दिनों की तरह ही पुणे के व्यस्त बनेर मार्ग पर अपनी ड्यूटी निभा रहे थे. इस बीच उन्होंने बिना सीट बेल्ट बांधे कार चला रहे एक ड्राइवर को रूकने का संकेत दिया. जब वह करीब गए और वाहन चला रहे व्यक्ति ने खिड़की का शीशा नीचे गिराया तो देवकर यह देखकर भौंचक्के रह गए कि ड्राइवर सीट पर कोई और नहीं बल्कि पुलिस उपायुक्त (यातायात) विश्वास पंढारे थे.

निजी कार में शीर्ष यातायात अधिकारी को देखकर इस कांस्टेबल ने सलाम किया. डीसीपी पंढारे ने उनसे पूछा कि क्यों उन्हें रूकने को कहा गया. इस पर देवकर ने कहा कि उन्हें देखने में लगा कि ड्राइवर ने सीट बेल्ट नहीं बांध रखी है और इसलिए यातायात नियमों को तोड़ने के लिए जुर्माना वसूलने के लिए वह आये.

देवकर की स्पष्टवादिता और कार्य के प्रति लगन देखकर डीसीपी ने बाद में संवाददाताओं को बताया कि उन्होंने कांस्टेबल को ईनाम दिया.

पंढारे ने स्वीकार किया कि जब वह रविवार को जा रहे थे तो उस दौरान उन्होंने सीट बेल्ट नहीं बांधी थी.

 

Latest news

- Advertisement -spot_img
Related news
- Advertisement -spot_img

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें