प्रधान मंत्री आवस बने कमाई का जरिया ,पात्रों को आश्वासन मिला अपात्रों को आवास मिला।

सीतापुर-अनूप पाण्डेय,कृष्ण मोहन मिश्र “राहुल”/NOI-उत्तर प्रदेश सरकार के द्वारा जहां जीरो टॉलेन्स की नीति पर कार्य किया जा रहा है वही ग्राम पंचायतों में अपनी ऊंची पहुंच व रसूख के चलते पात्र लाभार्थियों का शोषण करने से जरा भी हिचक नहीं महसूस कर रहे हैं वही जिम्मेदार अधिकारी अपने कमीशन खोरी के चलते अपने अधीनस्थों पर कार्यवाही करने के बजाय उन को बचाने का कार्य करते हैं जिसके चलते पात्र लाभार्थियों को अपात्र करने का खेल भी खेला जाता है जहां पात्र व्यक्ति पैसा देने में असमर्थ होता है वही अपात्र भारी भरकम रकम देकर अपने को पात्रता की श्रेणी में ले आता है जिसका कमीशन जिम्मेदार की सीढ़ियों तक जाता है प्राप्त जानकारी के अनुसार जनपद सीतापुर के विकासखंड सकरन की ग्राम पंचायत तारपारा आवास आवंटन में ग्राम रोजगार सेवक व सचिव के द्वारा बड़ा ही खेल खेला गया है जो ग्राम पंचायत पूर्व में घोटाले में काफी चर्चित रही और कई ऐसे मामले उजागर हुए हैं जहां भ्रष्टाचार पर कार्यवाही भी नही की गई है उसी ग्राम पंचायत के रोजगार सेवक रोशन के द्वारा प्रधानमंत्री आवास ग्रामीण में भारी-भरकम अवैध धन वसूली कर अपना व उच्च अधिकारियों की जेब भरने का कार्य किया गया है जहां के ग्रामीणों के द्वारा शपथ पत्र देकर कहा गया कि प्रत्यय आवास 10 से 20000 तक की वसूली का आरोप लगाया है वही बहुत ऐसे लाभार्थी हैं जिनके जेवर व गहने बिकवा कर आवास का लालच देकर पैसा लिया गया है परंतु अभी तक उन विचारों को आवास नहीं मुहैया हुए हैं जिसके चलते ग्रामीणों में दिन-प्रतिदिन आक्रोश बढ़ता जाता है वहीं कुछ ग्रामीणों ने शिकायती पत्र देकर जिलाधिकारी से न्याय की गुहार लगाई है एक तरफ योगी सरकार भ्रष्टाचारियों पर कड़ी कार्यवाही के लिए प्रयासरत है वही जनपद सीतापुर में सकरन ग्राम पंचायत तारपारा में सरकार द्वारा चलाई जा रही हैं महत्वकांक्षी योजना हर गरीब को छत मुहैया कराने की योजना में भी अपनी कमाई का जरिया बना चुके रोजगार सेवक व सचिव के द्वारा पात्रों को अपात्र व पात्रों को अपात्र करते हुए जमकर धन उगाही की गई है वहीं ग्राम पंचायत में मनरेगा के तहत कराए गए कार्यों की यदि स्थलीय निरीक्षण कर लिया जाए गया तो लाखों का घोटाला उजागर होगा रोजगार सेवक के द्वारा अपने चहेतो के नाम पर हाजिरी लगा कर फर्जी तरीके से पैसा निकालने का भी आरोप ग्रामीणों ने दबी जुबान से लगाया

ब्लॉक सकरन क्षेत्र के तारपारा ग्राम पंचायत में स्वच्छ भारत मिशन के तहत शौचालय निर्माण कार्य में भारी गड़बड़झाला सामने आया है प्रधान और पंचायत सचिव ने मिलकर पांच मुर्दों को शौचालय आवंटित कर हजारों रुपए की रकम डकार ली ग्रामीण छोटकन्नू ने पंचायत राज अधिकारी को दिए गए ऑनलाइन शिकायत पत्र में आरोप लगाया है कि तारपारा ग्राम सभा के अंतर्गत आने वाले कई गांव में शौचालय ग्राम विकास अधिकारी रविशंकर ने शौचालय निर्माण के लिए आवंटन को अवधेश बरसाती नंदरानी मनोहर राम पति को शौचालय आवन्टित करके पैसा हड़प लिया है साथ ही कई अन्य लोगों का भी पैसा निकाल लिया है खंड विकास अधिकारी संदीप कुमार ने कहा कि मामला सामने नहीं आया है शिकायतकर्ता छोटकन्नू का आरोप है कि जब कोई अधिकारी जाच करने आता है तो शिकायतकर्ता को नही बताया जाता है एक दो शौचालय प्रधान के पुत्र दिखवा देते हैं और जांचकर्ताओ को वापस कर देते है यदि तारपारा की जांच सही तरीके से की जाये तो प्रधान से लेकर कयी अन्य अधिकारी जाच के दायरे मे आ जाएंगे।

ग्राम पंचायत तारपारा के प्रधान ने सचिव से साठ गांठ कर अपने चहेतो को रेवाड़ीओ की तरह आवास बांट दिए गांव के तमाम अपात्र लोग आवास पा गए जबकि पात्र लोग आवास का लाभ पाने से वंचित रह गए तारावती पत्नी पुतान झोपड़ी बनाकर गांव मे काफी वर्षों से रह रही है जिनको गांव के अभी तक शौचालय तथा आवास का लाभ नहीं दिया गया जबकि पात्रों को आवास आवंटन कर दिया गया यादि ग्राम पंचायत में वितरित आवास धारकों का सत्यापन कर लिया जाए तो ज्यादातर आवास धारक अपात्र पाए जाएंगे मगर गुलाबी नोटों के खेल के कारण गरीब पात्र व्यक्ति पैसा देने में असमर्थ होता है वही अपात्र लोग पैसों के दम पर पात्रता हासिल कर लेते हैं और उनको आवास मिल जाता है

सकरन थाना क्षेत्र अन्तर्गत अपात्रों को आवास दिये जाने की शिकायत करने पर प्रधान व उसके साथियों ने मिलकर एक ब्यक्ति की पिटाई कर दी मामले की तहरीर पुलिस को दे दी गयी है
जानकारी के अनुशार सकरन थाना क्षेत्र के तारपारा गांव निवासी प्रधान इस्लामुद्दीन द्वारा गांव के ही निवासी आठ ऐसे लोगो को आवास का लाभ दिया गया था जिनके पास पहले से पक्के मकान बने हुये थे गांव निवासी छोटकन्नू ने गांव के एक दर्जन लोगों के साथ सोमवार को जिलाधिकारी को शिकायती पत्र देकर मामले की जांच करवाये जाने की मांग की थी प्रधान उसी बात को लेकर नाराज था छोटकन्नू का आरोप है कि शुक्रवार की सुबह वह अपने घर से गांव के भीतर जा रहा था तब तक प्रधान व उसके साथी समीउद्दीन,मो0 जकी,बबलू,फुरकान आदि ने घेर कर गन्दी गन्दी गालिया देते हुये लात घूसों से मारा पीटा चीख पुकार सुनकर मौके पर पहुंचे ग्रामीणों को देख हमलावर जान से मारने की धमकी देते हुये मौके से फरार हो गये छोटकन्नू ने मामले की तहरीर पुलिस को दे दी है
इस सम्बन्ध में जब एसओ पुष्पराज कुशवाहा से बात की गयी तो उन्होने बताया कि तहरीर मिली है मामले की जांच करवायी जा रही है

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

twelve − 8 =