ब्रेकथ्रू के ‘दख़ल दो‘ अभियान से जुड़े फिल्म अभिनेता राजकुमार राव


महिलाओं के साथ होने वाली हिंसा को रोकने के लिए राजकुमार राव ने लोगों से दख़ल देने की अपील की
● स्वयंसेवी संस्था ब्रेकथ्रू ने निजी और सार्वजनिक स्थानों पर महिलाओं और लड़कियों के साथ होने वाली हिंसा को रोकने को लोगों प्रोत्साहित करने के लिए ‘दख़ल दो ’अभियान शुरूआत की।

लखनऊ , 28 दिसंबर 2020: महिलाओं और लड़कियों के खिलाफ हिंसा और भेदभाव को अस्वीकार्य बना कर एक समानता वाला समाज बनाने की मांग करने वाली स्वयंसेवी संस्था ब्रेकथ्रू ने आज अपने अभियान ‘दख़ल दो ’ को शुरू करने की घोषणा की। ‘दख़ल दो’ जिसका अर्थ है ‘हस्तक्षेप करना’। यह अभियान 19-25 आयु वर्ग के युवाओं को सार्वजनिक और निजी स्थानों, दोनों में महिलाओं और लड़कियों के खिलाफ हिंसा को रोकने के लिए यानी दख़ल देने को, प्रेरित करने के लिए बनाया गया है। अभियान से आम लोंगों को जोड़ने और उनको महिलाओं के साथ होने वाली हिंसा को रोकने के हेतु प्रेरित करने के लिए ब्रेकथ्रू ने प्रसिद्ध बॉलीवुड अभिनेता राजकुमार राव से हाथ मिलाया है।
यह अभियान खास तौर से युवाओं को, जब वे महिलाओं और लड़कियों के खिलाफ हिंसा को अपने स्वयं के जीवन में या सार्वजनिक स्थानों पर होते हुए देखते हैं, तो उनको दख़ल देने के लिए प्रेरित करना चाहता है। साथ ही यह अभियान भारत में महिलाओं और लड़कियों के लिए सुरक्षित स्थान बनाने के लिए एक बाएस्टैंडर की भूमिका को महत्वपूर्ण बनाता है। दख़ल दो अभियान यूपी, हरियाणा, बिहार-झारखंड और दिल्ली में चल रहे ब्रेकथ्रू के कार्यक्रमों का अभिन्न हिस्सा होगा ।
इस साझेदारी पर राजकुमार राव ने कहा, ” मैं ‘दख़ल दो’ अभियान के लिए ब्रेकथ्रू के साथ हाथ मिलाने को लेकर बहुत उत्साहित हूं। मेरा दृढ़ विश्वास है कि इस तरह के प्रयास हमें महिलाओं और लड़कियों के खिलाफ हिंसा को समाप्त करने में मदद करेंगे। मैंने देखा है कि ज्यादातर लोग शारीरिक हिंसा होने पर ही कुछ कहते या करते हैं यानी वह शारीरिक हिंसा को ही हिंसा मानते हैं, लेकिन अकसर इस तथ्य को लोग नहीं समझ पाते कि हिंसा अन्य रूपों और आकारों में हमारे आस-पास मौजूद जैसे कि भावनात्मक, मानसिक और वित्तीय हिंसा, इस सोच को बदलने की जरूरत है। हिंसा के विभिन्न रूपों और महिलाओं पर उनसे पड़ने वाले प्रभाव पर नियमित चर्चा और जागरुकता की आवश्यकता है। यह चर्चा जो अभी सीमित जगहों या दायरों में हो रही है उसे बड़े स्तर पर लोगों तक ले जाने की जरूरत है जिसमें हमें सभी का साथ चाहिए। मेरा मानना है कि महिलाओं और लड़कियों के खिलाफ हिंसा हर किसी की समस्या है और हमें उसमें बोलने,उसे रोकने और उसमें दख़ल देने की जरूरत है। ”
हाल के वर्षों में महिलाओं और लड़कियों के खिलाफ हिंसा के मामले, विशेष रूप से सार्वजनिक स्थानों पर बढ़ते हुए देखे गए हैं। एनसीआरबी-2018 की रिपोर्ट के अनुसार देश भर में महिलाओं के खिलाफ अपराध के लगभग 3.78 लाख मामले दर्ज हुए हैं।

दख़ल दो कैंपेन का उद्देश्य लोगों में जागरूकता बढ़ाना है कि वह कैसे चेंज मेकर बनें न कि मूक दर्शक यानी वह महिलाओं के खिलाफ होने वाली हिंसा को अनदेखा न करें बल्कि आगे बढ़कर उसे रोकने के लिए कदम उठाएं। यह सोच लोगों को महिलाओं के साथ होने वाले संभावित अपराधों को पूर्व में ही पहचानने, उन्हें समझने और उसमें दख़ल देने के लिए प्रेरित करेगी।
इस कैंपेन के लांच के अवसर पर ब्रेकथ्रू की अध्यक्ष और सीईओ सोहिनी भट्टाचार्या ने कहा “ब्रेकथ्रू एक ऐसा माहौल बनाने के लिए समर्पित है जिसमें महिलाओं और लड़कियों के खिलाफ हिंसा और भेदभाव अस्वीकार्य हो। ‘दख़ल दो’ कैंपेन जागरूकता बढ़ाने, कार्रवाई को प्रेरित करने और अधिक लोगों को लिंग आधारित हिंसा ( जेंडर बेस्ड वॉयलेंस) को नकारते हुए “और नहीं” कहने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। यह अभियान लोगों को सुरक्षित सार्वजनिक स्थानों के निर्माण के लिए चेंजमेकर्स के रूप में अपनी भूमिका को समझने के लिए प्रेरित करेगा। हमें प्रसन्नता है कि इस संदेश को पूरे देश में बड़ी संख्या में लोगों तक ले जाने के लिए प्रसिद्ध अभिनेता राजकुमार राव हमारे साथ जुड़े हैं। ”
‘दख़ल दो’ अभियान को अधिक से अधिक लोगों तक पहुंचाने और उन्हें अभियान से जोड़ने के लिए हम सोशल मीडिया सहित मीडिया के विभिन्न माध्यमों का उपयोग कर रहे हैं। इस अभियान में हम एक प्रतियोगिता की भी घोषणा कर रहे हैं जिसमें 15-25 आयु वर्ष के लोग शामिल हो सकेगें। प्रतिभागियों में शामिल होने के लिए व्हाट्सएप नंबर 9953124083 या ‘दख़ल दो’ के पेज पर जाकर अपनी कहानियों को वीडियो, ऑडियो या लिख कर साझा करना होगा। जिसमें उनको यह बताना होगा कि उन्होंने कैसे हस्तक्षेप करके किसी महिला के साथ होने वाली संभावित हिंसा की घटना को रोका। प्रतियोगिता में जीतने वाले तीन विजेताओं को मिलेगा अभिनेता राजकुमार राव से उनके दख़ल के लिए पर्सनल मैसेज और अपनी कहानी रेडियो पर सुनाने का मौका। प्रतियोगिता की आखिरी तारीख 15 जनवरी है।
ब्रेकथ्रू के बारे में:
ब्रेकथ्रू एक स्वयंसेवी संस्था है जो महिलाओं और लड़कियों के खिलाफ होने वाली हिंसा और भेदभाव को समाप्त करने के लिए काम करती है। कला, मीडिया, लोकप्रिय संस्कृति और सामुदायिक भागेदारी से हम लोगों को एक ऐसी दुनिया बनाने के लिए प्रेरित कर रहे हैं, जिसमें हर कोई सम्मान, समानता और न्याय के साथ रह सके।

हम अपने मल्टीमीडिया अभियानों के माध्यम से महिला अधिकारों से जुड़े मुद्दों को मुख्य धारा में ला कर इसे देश भर के समुदाय और व्यक्तियों के लिए प्रासंगिक भी बना रहे हैं। इसके साथ ही हम युवाओं, सरकारी अधिकारियों और सामुदायिक समूहों को प्रशिक्षण भी देते हैं, जिससे एक नई ब्रेकथ्रू जेनरेशन सामने आए जो अपने आस-पास की दुनिया में बदलाव ला सके।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

16 + 12 =