28 C
Lucknow
Monday, July 15, 2024

यहा सपा उम्मीदवार को हरा सकते है सपा विधायक

सीतापुर। विधानसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी का गढ़ कहा जाने वाला सीतापुर की कई सीटों पर पार्टी 

 को भारी नुकसान होने साबित हो रहा है। सीतापुर जिले की दो सीटों बिसवाँ और सेउता के सिटिंग विधायकों के टिकट से यादव और क्षत्रिय समाज के लोगों में काफी गुस्सा आसानी से देखा जा सकता है।

भगवती सिंह के दामाद और सेउता सीट से विधायक के टिकट के कटने से नाराज है क्षेत्र के लोग।

समाजवादी पार्टी के दिग्गज नेता भगवती सिंह के दामाद महेंद्र सिंह झीन बाबू का उत्तर प्रदेश के सीतापुर की सेउता विधानसभा सीट से टिकट काटने से विधायक द्वारा आज किया गया कार्यकर्त्ता सम्मलेन में लोगों में काफी जनाक्रोश देखने को मिला। लगातार  पिछले 4 बार से इस क्षेत्र से सपा विधायक रहे झीन बाबू द्वारा आज अपने गांव सुपौली में  विशाल जनसभा की गयी। जिसमे लोग काफी आक्रोशित दिखाई दिए । जिसमे क्षेत्र से लाखों की तादात में लोग सम्मलित भी हुए।
> >
> > क्षत्रिय समाज का है इस विधानसभा में गहरा प्रभाव
> >
> > आपको बता दें कि विधायक महेंद्र सिंह झीन अपने सेउता क्षेत्र से पिछले 4 बार से लगातार विधायक है। कारण है कि इस विधानसभा में क्षत्रिय और ब्राह्मण बिरादरी के वोटरों की संख्या काफी अधिक है और इस विधानसभा में पिछले कई बार से ब्राह्मण और क्षत्रिय नेता के बीच में ही चुनावी जंग रही है। वहीँ इस बार के चुनाव में इस सीट पर भाजपा ने तो ज्ञान तिवारी को टिकट देकर ब्राह्मण कार्ड खेला है वही बहुजन समाज पार्टी ने इस सीट पर मुस्लिम प्रत्याशी नसीम इंजिनीयर को उतारा है वहीँ  समाजवादी पार्टी ने विधायक महेंद्र सिंह झीन की जगह शिव कुमार गुप्ता को प्रत्याशी बनाया है ।जिससे इस क्षेत्र के क्षत्रिय समाज के लोगों में काफी आक्रोश है।जिससे कलोगों और जिले में आम चर्चा है कि समाजवादी पार्टी सेउता सीट से हारती हुई नजर आ रही है।
> >
> > विधायक झीन बाबू लड़ सकते है लोकदल से या खड़े हो सकते है कल निर्दलीय
> >
> > कल का दिन सबसे अहम होगा । क्योंकि समाजवादी पार्टी से इस बार काटे गए  बिसवाँ और सेउता सीट के सिटिंग विधायकों के टिकट के बाद सोमवार को ये दोनों नेता अपना नामांकन पत्र दाखिल कर सकते है। चर्चा है कि सेउता से 4 बार से जीत हासिल करने वाले 

 सिटिंग विधायक महेंद्र सिंह झीन लोकदल पार्टी से या फिर निर्दलीय भी अपना नामांकन पत्र दाखिल कर सकते है। जिसके बाद आने वाले चुनाव में इस सीट से समाजवादी पार्टी की हार होने की सम्भावना बढ़ सकती है।

Latest news

- Advertisement -spot_img
Related news
- Advertisement -spot_img

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें