28 C
Lucknow
Monday, December 6, 2021

सियासी तकरार, तीरों की नहीं शब्द बाणों की बौछार

लखनऊ, शैलेन्द्र कुमार। आज-कल आपको रामायण या महाभारत के एपिसोड देखने की जरूरत नहीं है। क्योंकि आज-कल इन एपिसोडों का काम चुनावी मैदान में लड़ रही पार्टियां ही कर रही हैं। जहां रामायण और महाभारत में राजगद्दी के लिए युद्ध हुए वहीं आज सीएम की गद्दी के लिए युद्ध हो रहे हैं। बस फर्क सिर्फ इतना है कि उस युद्ध में तीरों की बौछार होती है और आज कल शब्द के बाणों की बौछार हो रही है।

जिस तरह से सियासी तकरार इन पार्टियों के बीच हो रही है उसे देखकर तो ऐसा लग रहा है कि ये चुनावी तकरार नहीं बल्कि घरेलू युद्ध है। सभी पार्टियों के दिग्गज नेता विरोधी पार्टियों के नेताओं पर हमले पर हमले करते ही जा रहे हैं। और वे सभी यह भी भूल गये हैं कि जिस तरह के बयान वो दूसरी पार्टी के नेताओं पर दे रहे हैं, उसका प्रभाव जनता पर क्या और कैसा पड़ेगा। अब तो यह लगने लगा है कि चुनावी लड़ाई चुनावी जंग बन गई है।

बता दें कि शनिवार को सिद्धार्थनगर जनपद के चिल्हिया बाजार, इटावा के माता प्रसाद जायसवाल इंटर काॅलेज, डुमरियागंज के कोल्ड स्टोरेज बढ़नी लोहरौली के मैदान, संतकबीर नगर जनपद के मेहदावल विधानसभा क्षेत्र के कम्हरिया गांव के मैदान, बकौली बाग, बस्ती जनपद के राजकीय इंटर काॅलेज के मैदान और गायघाट के गुरूशरण पाल जनता इंटर काॅलेज के मैदान में सपा प्रत्याशियों के समर्थन में चुनावाी जनसाभाओं को संबोधित करने गये

मुख्यमंत्री व सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने पीएम नरेन्द्र मोदी के परीक्षाओं में नकल पर की गई टिप्पणी पर पलटवार करते हुए बोले कि- परीक्षाओं में थोड़ी बहुत नकल तो सब करते हैं, लेकिन प्रधानमंत्री तो कपड़े पहनने तक की नकल करते हैं। उन्होंने बीजेपी से पूछा कि वह बताए कि दुनिया के एक बड़े आदमी ने अपना नाम लिखा सूट पहना था, उसकी नकल किसने की?

और बसपा सुप्रीमो पर कटाक्ष करते हुए कहा कि पन्ने पढ़कर बोलने वाली भी यहां आई होंगी। सावधान रहें, बीएसपी वाले विकास नहीं करेंगे। बुआ जी का हाथी खड़ा का खड़ा है। बुआ का बीजेपी से समझौता हुआ है। इसलिए सावधान रहें।
वहीें कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने भी नानपारा में चुनावी जनसभा को बहराइच, गोंडा व सुल्तानपुर को संवोधित करते हुए पीएम मोदी पर हमला बोला।

उन्होंने कहा कि- यूपीए सरकार ने किसानों का 70 हजार करोड़ रूपये का बिना वादा किये माफ कर दिया। लेकिन पीएम मोदी ने लोकसभा चुनाव में देश के सामने अच्छे दिन लाने की बात कही, और देशवासियों को नोटबंदी का दर्द दे दिया।
प्रधानमंत्री अमीरों का करोड़ों का कर्ज माफ कर देते हैं, लेकिन गरीबों और किसानों के लिए कुछ नहीं किया।

बसपा सुप्रीमो भी पीछे नहीं रही और देवरिया और महाराजगंज में आयोजित जनसभा को संबोधित करने गई बसपा सुप्रीमो मायावती ने सपा, भाजपा व कांगं्रेस पर जमकर निशाना साधा। मोदी पर हमला बोलते हुए कहा कि इस बार यूपी में मोदी की काठ की हांडी नहीं चढ़ेगी। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह को कसाब की संज्ञा दी और कहा कि शाह बताएं कि उन्होंने महाराजगंज जिले में लोगों को भाजपा शासित प्रदेशों में कितने कत्लखाने खत्म कराए।

और ये दूसरे को कसाब कह रहे हैं, लेकिन इनसे बड़ा आतंकी कोई दूसरा नहीं हो सकता है। दूसरी तरफ भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि पूरे प्रदेश में भाजपा की लहर दौड़ रही है। अमित शाह शनिवार को देवरिया के सलेमपुर बापू इंटर काॅलेज के मैदान, कुशीनगर के पडरौना और अकबरपुर के गौहन्ना में जनसभा को संबोधित कर रहे थे।

उन्होंने भी सपा और बसपा पर निशाना साधते हुए कहा कि बुआ और भतीजा ने बारी-बारी से पूर्वांचल को बर्बाद कर दिया है। सीएम अखिलेश पर निशाना साधते हुए कहा कि अखिलेश का नारा है काम बोलता है, लेकिन प्रदेश में बिजली, सड़क, पानी, धान-गेहूं की खरीद, माता-बहनों की सुरक्षा तथा युवाओं के रोजगार की तरफ नजर डालें तो प्रदेश का विकास आपके सामने दिखाई देगा।

इस तरह से दिन-प्रतिदिन हर एक पार्टी दूसरी पार्टी पर लगातार शब्दों के बाणों से हमला कर रही हैं। और ऐसा लगता है कि अब इन पार्टियों में जनता के वोट से ज्यादा ये चल रहा है कि किसके बयान का असर पार्टी पर पड़ेगा। जनता की जरूरत का ध्यान रखना तो भूल ही गयीं हैं ये र्पािर्टयां और सिर्फ एक दूसरे पर वार करने में ही व्यस्त हैं।

और इसका प्रभाव प्रदेश की जनता पर भी पड़ रहा है जो कि राजनीतिक पार्टियों को दिख ही नहीं रहा है। लेकिन इन बयानों का पूरा प्रभाव तो चुनाव का रिजल्ट आने पर ही दिखेगा, कि प्रदेश की जनता को कौन-सी पार्टी अपने भविष्य के लिए अच्छी लगी है और कौन-सी नहींे।

Latest news
- Advertisement -spot_img
Related news
- Advertisement -spot_img

Leave a Reply