रेउसा”सिंचाई राज्य मंत्री ने बांटा बाढ़ पीड़ितों का दर्द ।

सीतापुर-अनूप पाण्डेय,अमरेंद्र पाण्डेय/NOI-उत्तरप्रदेश जनपद सीतापुर में राज्य मंत्री ने किया बाढ़ प्रभावित क्षेत्र का दौरा ।

रेउसा, सीतापुर । बहुत जल्दी बाढ़ का स्थाई समाधान होगा मुख्यमंत्री सहित पूरा मंत्रिमंडल बाढ़ समस्या के समाधान को गंभीरत है ले रहा है । 22 करोड़ की खमरिया परियोजना जल्दी ही स्वीकृत की जाएगी जिससे कि आने वाले वर्ष की बाढ़ से पहले काम पूरा कर लिया जाए , यह बात प्रदेश के सिंचाई राज्य मंत्री बलदेव सिंह औलख ने विधायक ज्ञान तिवारी के साथ बाढ़ प्रभावित क्षेत्र खमरिया शेखूपुर ,गौलोक कोडर का निरीक्षण किया ।इस दौरान खमरिया शेखू पुर में चौपाल लगाकर ग्रामीणों की समस्याओं को सुना ग्रामीणों ने बाढ़ की समस्याओ से मंत्री को अवगत करवाया मंत्री ने कहा यह पहली बार होगा कि बाढ़ को लेकर प्रदेश के मुख्यमंत्री व उनके सभी मंत्री बहुत गंभीरता से ले रहे हैं और आपदा के समय प्रदेश का भ्रमण कर रहे हैं मंत्री ने कहा ग्रामीणों के दुख दर्द में हम सब भागीदार हैं उन्होंने कहा कि बाढ़ की समस्या सरकार की समस्या है इसका समाधान हमारी जिम्मेदारी है उन्होंने कहा विधायक ज्ञान तिवारी के प्रयास से इस क्षेत्र की चार परियोजनाएं मंजूर हुई थी जिन पर काम चल रहा है बहुत ही जल्द ही 22 करोड़ की खमरिया परियोजना को मंजूरी दी जाएगी जिससे कि अगली बार बाढ़ आने से पहले इस परियोजना पर काम पूरा कर लिया जाएगा , उन्होंने कहा कि ग्रामीण अपने परिवार की चिंता करें और सरकार की विकास व सरकारी परियोजनाओं में भागीदार बनें ज्ञान तिवारी ने कहा बाढ़ की समस्याओं के साथ ही सब लोग सरकार की जो परियोजनाएं हैं उन पर ग्रामीण अपनी जिम्मेदारी निभाते हुए प्रधानमंत्री आवास प्रसाधन, खाद्यान्न की भी निगरानी करें इस दौरान विधायक ने जिले की बाढ़ समस्या से सिंचाई मंत्री को विस्तार से अवगत कराया और विधायक ने सिंचाई विभाग से हो रहे कार्य की भी जानकारी मंत्री को दी और क्षेत्र के विकास सहित बाढ़ के समाधान को लेकर जो काम होने हैं उनकी सूची भी मंत्री को दी।
इस दौरान विधायक प्रतिनिधि ओम प्रकाश मिश्रा, रामस्वरूप भार्गव, प्रधान अशोक बाजपेयी , शिव भजन शुक्ला ,मथुरा प्रसाद अवस्थी ,रामू शुक्ला, विनोद अवस्थी सहित सिंचाई विभाग के अधिकारी,एस डी एम , शशि भूषण राय , तहसीलदार, क्षेत्राधिकारी बिसवां, थाना प्रभारी सहित ग्रामीण मौजूद रहे।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.