पुरानी पेंशन बहाली की मांग को लेकर आज से तीन दिन तक राज्यकर्मचारी व शिक्षक कार्य बहिष्कार कर दिया है। जिसको लेकर कर्मचारियों व शिक्षकों के कार्य बहिष्कार से सरकारी कार्य के साथ ही पठन-पाठन भी प्रभावित होगया हैं। इस हड़ताल में लगभग 20 लाख कर्मचारी  शामिल है। जिसको लेकर राजधानी लखनऊ में हड़ताल  का खासा असर देखने को मिला… जंहा राजभवन के सामने PWD मुख्यालय पर कर्मचारियों ने एक साथ सभा कर सरकार के खिलाफ जमकर विरोध प्रदर्शन किया और नई पेंशन स्कीम का पुतला फूंक कर जमकर विरोध प्रदर्शन दर्ज कराया। और चेतावनी दी है कि अगर इसके बावजूद भी मांगे नहीं मानी गई तो एक बड़ा आंदोलन होगा जिसके जिम्मेदार खुद सरकार।

प्रदर्शन कर रहे कर्मचारियों का कहना है कि आज पुरे प्रदेश में राज्य कर्मचारी प्रदर्शन कर रहे हैं जिसमें लगभग 20 लाख कर्मचारी शामिल है। वही उनका कहना है कि सरकार इसके बावजूद भी हमारी मांगे नहीं मानी तो हम लोग पूरे भारत में सभी से संवाद करके एकत्र होकर एक बड़ा आंदोलन करेंगे जिसका खामियाजा सरकार को भुगतना पड़ेगा।वही राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद व अन्य कर्मचारी संगठनों ने हड़ताल को लेकर कर्मचारी ,शिक्षक, अधिकारी पुरानी पेंशन बहाली मंच द्वारा पूरे प्रदेश में तीन दिवसीय हड़ताल के पहले दिन खासा असर देखने को मिला…… वही अगर नुकसान की बात करे तो पहले ही दिन सरकार को करोड़ों का नुकसान उठाना पड़ सकता है।

बाइट–हरि किशोर तिवारी, अध्यक्ष राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.