मो.इरफ़ान शाहिद:NOI।

योगी सरकार भले लाख दावे करे के उत्तर प्रदेश में अपराध कम है लेकिन ज़मीनी हक़ीक़त इससे बिल्कुल जुदा ही नज़र आती है जिसका कारण भी है कारण ये है कि आये दिन यहां अपराध की खबरें ही सुर्खी में रहती हैं। और तो और यहां पत्रकार भी कितना सुरक्षित है ये बात भी किसी से छिपी नही है।

ऐसी ही एक घटना न्यूज़ वन इंडिया के कर्मचारी मोहम्मद तालिब के साथ घटी है जिनका मोबाइल उनके घर के पास ही लूट लिया गया। जिसकी शिकायत क़ैसरबाग कोतवाली के अंतर्गत चाइना बाजार चौकी में दर्ज कराई। लेकिन एफआईआर दर्ज करने भर से पुलिस का काम ख़तम नहीं होता। लालबाग़ पैलेस रोड का यह इलाका लुटेरों का अड्डा बन गया है। इस रोड पर स्ट्रीट-लाइट न होने के कारण यहाँ अक्सर ऐसी वारदातें होती रहती हैं। लेकिन चिंता का विषय यह है कि पुलिस हाथ पर हाथ रखे बैठी है। आस-पास के लोगों की माने तो यहाँ इन लुटेरों के हौसले बुलंद है और अक्सर लूट की वारदात को अंजाम देते हैं।

मामला हम बताते हैं वाक्य क़ैसरबाग का है जहां न्यूज़ वन इंडिया के ग्राफिक्स डिज़ाइनर के साथ उस वक़्त लूट हो गई जब वो गाड़ी खड़ी करके अपने घर की ओर जा रहे थे। आपको बता दें कि न्यूज़ वन इंडिया के ग्राफिक्स डिज़ाइनर मोहम्मद तालिब पुत्र स्वर्गीय मोहम्मद आसिफ पता डॉ मोती लाल बोस रोड थाना क़ैसरबाग जब अपनी गाड़ी खड़ी कर अपने घर जा रहे थे तभी 2 पल्सर सवार अज्ञात लोगों ने उनसे उनका मोबाइल छीन लिया जिससे वो अपना काम कर कमाई करते थे और जो कीमती भी था पर अफसोस की बात यह है की जब पीड़ित कैसरबाग़ कोतवाली पहुंचा तो वहां मौजूद पुलिस विभाग के लोगों ने उसे नसीहत दी कि,”आप FIR फ़ोन खोने की लिखिए, लूट की नहीं”. वाह रे ! यूपी पुलिस। लगभग 14 घंटे के बाद FIR दर्ज हुई। देखना यह है कि अब पुलिस अपराधी को पकड़ पाती है या नहीं?

माना कि सरकारी आंकड़ों के मद्देनजर इस मामले की भी एफआईआर दर्ज कराई गई है पर मामला बेहद गंभीर है जो ये बताने के लिए काफी है कि उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में अपराधी कितने बेखौफ है। क्योंकि यहां अपने जान माल की हिफाज़त करना भी किसी चुनौती से कम नही रह गया है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.