लखनऊ: लेखिका राज स्मृति ने लखनऊ में अपनी पहली पुस्तक पैशनेट एडुकेश्निस्ट – अन्टोल्ड स्टोरी का लोकार्पण किया। किताब का लोकार्पण के दौरान माननीय कैबिनेट मंत्री उत्तर प्रदेश सरकार प्रोफेसर रीता बहुगुणा जोशी व अयोध्या से श्री यतीन्द्र जी महाराज मौजूद रहे। साथ ही मुकेश सिंह, अध्यक्ष पीएचडी चेम्बर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री उत्तर प्रदेश के साथ लखनऊ शहर के अन्य वरिष्ठ लोग भी मौजूद रहे।

यह पुस्तक लखनऊ के 9 चयनित शिक्षाविदों की जीवन यात्रा का संकलन है व उनके शिक्षा के क्षेत्र में उनके अनुभवों को व्यक्त करती है। हिल्टन गार्डन इन, लखनऊ में आयोजित समारोह के दौरान 9 शिक्षाविदों, डा0 सुनीता गाँधी, डा0 मंजुला गोस्वामी, डा0 गीतिका सूरी कपूर, शोभा सिंह, प्रतिमा त्रिपाठी, निदा रिज़वी, माइकल डिकोस्टा फैन्थम, रिचा मनवानी पघवानी, स्वाति शर्मा को सम्मानित किया गया।

लेखिका राज स्मृति ने कहा, ” पुस्तक शिक्षा के क्षेत्र से इन असंगत नायकों की यात्रा का वर्णन करती है जो मानवता के भविष्य को आकार देने में अथक रूप से काम कर रहे हैं। सितंबर का महीना पूरे देश में शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है । अतः शिक्षक दिवस के इस शुभ अवसर पर हम इस पुस्तक के माध्यम से दुनिया भर के सभी शिक्षकों और प्रधानाध्यापकों की सराहना करते हैं। अपने लेख के माध्यम से मैं व्यक्तिगत रूप से अपने सभी शिक्षकों और प्रधानाध्यापकों का अभिवादन करती हूँ जिन्होंने उन्हें प्लेग्रुप से लेकर डॉक्टरेट स्तर तक पढ़ाया है। इस तरह की किताब पहले कभी नहीं लिखी गई है, जिसमें उत्तर प्रदेश राज्य के विद्यालयों के प्रधानचार्यो की जीवनी और उनके अनुभवों का वर्णन हो।

सीज़न 1 में 365 से अधिक जीवनी दस्तावेज करने के बाद, इन दो वर्षों में फोक टेल्स ने लखनऊ में 500 से अधिक लोगों से मुलाकात कर प्रत्येक पुस्तक में 9 लेखों का संग्रह तैयार किया है। 7 जून 2016 को रचयिता राज स्मृति द्वारा स्थापित समाज के विभिन्न लोगों के वास्तविक जीवन से प्रेरित करने वाली कहानियों को एक फेसबुक पेज द्वारा शुरू किया।
पिछले साल 9 सितंबर 2017 को, लगभग 365 लोग जिनकी जीवनी का वर्णन किया गया है, उन्हें विवांता- ताज में आयोजित समारोह के दौरान सम्मानित किया गया था। इस अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप में श्रीमती अपर्णा यादव और श्री मुकेश बहादुर सिंह मौजूद रहे थे ।

पेंसिल्वेनिया स्टेट यूनिवर्सिटी और हार्वर्ड समर स्कूल की भूतपूर्व छात्र , राज स्मृति को पढ़ना और लिखना बहुत पसंद है और लोक कथाएं लिखना उनका जुनून है।आने वाले महीनों में नौ और किताबें प्रस्तावित हैं जो न सिर्फ लखनऊ के लोगों की बल्कि दुनिया भर के लोगों की गाथा व्यक्त करती है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.