सीतापुर – अनूप पाण्डेय, राकेश पाण्डेय/NOI-उत्तरप्रदेश के जनपद सीतापुर के हरगांव विकास खंड हरगांव के अंतर्गत ग्राम पंचायत पिपरा घूरी में स्वच्छ भारत अभियान के तहत बनवाए जा रहे शौचालयों में बरती जा रही घोर लापरवाही व धन के बंदरबांट की आशंका के तहत खण्ड विकास अधिकारी हरगांव ने ग्राम प्रधान व ग्राम पंचायत अधिकारी को कारण बताओ नोटिस जारी किया है।
मिली जानकारी के अनुसार खंड विकास अधिकारी हरगांव ने अपने कार्यालय पत्रांक 4690/ स्व० भा० मि०/ ग्रा०/ दिनांक 9 जनवरी 2019 द्वारा ग्राम प्रधान पिपरा घूरी श्रीमती सरला देवी व ग्राम पंचायत अधिकारी सुधीर कुमार गौतम को कारण बताओ नोटिस जारी किया है नोटिस में खण्ड विकास अधिकारी ने उल्लेख किया है,कि स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण के अंतर्गत वर्ष 2017- 18 में 72 शौचालयों के निर्माण हेतु धनराशि उपलब्ध कराई गई तथा वर्ष 2018 -19में 125 कुल 197 स्वच्छ शौचालयों के निर्माण हेतु धनराशि उपलब्ध करायी गयी।
जमीनी हकीकत से रूबरू होने के उद्देश्य से खंड विकास अधिकारी हरगांव ने दिनांक 7 जनवरी 2019 को सहायक विकास अधिकारी( पं०) सतीश चंद्र त्रिवेदी व खण्ड प्रेरक नीरज कुमार से ग्राम पिपरा घूरी का संयुक्त सत्यापन कराया सत्यापन में कहानी कुछ और ही निकली।
सत्यापन के समय 197 स्वच्छ शौचालयों के निर्माण हेतु उपलब्ध कराई गई धनराशि के सापेक्ष मात्र 122 स्वच्छ शौचालय ही निर्मित पाए गए शेष 75 शौचालयों का निर्माण कार्य अभी प्रारंभ ही नहीं कराया गया। निर्मित कराए गए शौचालयों में से 30 शौचालयों में जनक्शन नहीं हैं, और न- ही गड्ढों में पाइप द्वारा कनेक्शन ही कराए गए हैं। इसके अतिरिक्त निरीक्षण के समय ग्राम सभा में कोई निर्माण कार्य भी चलता हुआ नहीं पाया गया।
जिससे स्पष्ट होता है भारत सरकार की इस महत्वाकांक्षी योजना में ग्राम प्रधान तथा ग्राम पंचायत अधिकारी द्वारा कोई रुचि नहीं ली जा रही है साथ ही शौचालयों के निर्माण हेतु उपलब्ध कराई गई धनराशि में घोटाला किये जाने की बू – आ रही है।
खण्ड विकास अधिकारी तीन दिन के अन्दर स्थिति स्पष्ट नहीं करने की दशा में शासकीय धन के गबन के आरोप में प्रथम सूचना रिपोर्ट दर्ज कराए जाने हेतु सर्व सम्बन्धित को सूचित किया है।
कमोवेश यही स्थिति विकास खण्ड हरगांव की वजीरपुर मूडीखेरा महानन्दपुर जैसी अन्य ग्राम सभाओं में भी है जहां पर भी निष्पक्ष जांच की आवश्यकता है। यदि निष्पक्षता से जांच वर्णित ग्राम सभाओं के साथ साथ अन्य ग्राम सभाओं में भी करा दी जाय, तो स्वच्छ भारत मिशन के तहत बनवाए गए / बनवाये जा रहे शौचालयों में घोटालों के साथ-साथ नाली, खडण्जा तालाब खोदान , प्रधानमंत्री आवास, में सरकारी धन में घोटाला किया जाना अवश्यंभावी है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.