सीतापुर-अनूप पाण्डेय/NOI-उत्तरप्रदेश जनपद सीतापुर में गन्ना सर्बे व फर्जी सट्टा धारकों पर अंकुश लगाने के प्रशासन के दावों की हवा निकालने में गन्ना समिति रामगढ़ के अधिकारी व कर्मचारी कोई कसर नही छोड़ रहे। गन्ना किसानों में चर्चाएं हैै कि समिति केे अधिकारी फर्जी जमीन फीडिंग से लेकर कलेंडर में छेड़छाड़ व गन्ना रकवा ट्रांसफर के रेट भी निर्धारित कर रक्खे है। गन्ना सर्बे व प्रपत्रों में हेराफेरी कर किसानों से मोटी रकम वसूलने में माहिर समिति के कर्मचारी सरकारी अभिलेखों में दर्ज तीन बीघे जमीन को उनसठ बीघा कर देते है। बस बदले में तय रकम गन्ना दलालो को चुकानी पड़ती है। सहकारी गन्ना बिकास समिति रामगढ़ के कर्मचारियों द्वारा जमकर भ्रष्टाचार किया जा रहा जिसकी चर्चाएं आम हो गयी पैसे के दम पर जमीन से लेकर रकबा या कोई भी सर्बे से संबंधित कार्य कराया जा सकता है। फर्जी सट्टा बंद करने को लेकर शासन द्वारा प्रयास किये गये व लगभग छत्तीस सौ फर्जी सट्टा बंद भी किये गए। गन्ना सर्बे में पारदर्शिता लाने व फर्जी किसान चिन्हित करने के लिए सभी सट्टा में फीड जमीन का खतौनी से मिलान कराया गया। नाम न क्षापने की शर्त पर समिति रामगढ़ के कर्मचारी ने बताया कि हमारे समिति के कुछ कर्मचारी जी आर एल के कर्मचारियों से सेटिंग कर यह खेल बखूबी कर रहे है। इस खेल में सचिव व ज्येष्ठ गन्ना बिकास निरक्षक की संलिप्तता को नकारा नही जा सकता है। इस तरह के कारनामों से गन्ना दलालो के सट्टा पर फर्जी जमीन दर्ज कर गन्ना दलाली करवाई जा रही। भ्रष्टाचार की शिकायत शतेन्द्र सिंह निवासी सरवा ने ज्येष्ठ गन्ना निरीक्षक से की गयी शिकायत में जिक्र में 1- जय प्रकाश सिंह पुत्र लल्लू सिंह 9131/1007 जमीन 18 बीघा दर्ज 58 बीघा,2-सत्य प्रकाश सिंह पुत्र लल्लू सिंह 9131/1040 जमीन 18 बीघा दर्ज 56 बीघा,3-कामिनी देवी पत्नी चंद्र पाल सिंह 9131/1598 जमीन 10 बीघा दर्ज 22 बीघा, 4-चंद्र पाल सिंह पुत्र लल्लू सिंह 9131/1001 जमीन 18 बीघा दर्ज 57 बीघा,5-लता देवी पत्नी जय करन सिंह 9131/1095 जमीन 5 बीघा दर्ज 22 बीघा, 6-अमित सिंह पुत्र जय करन सिंह 9131/1599 जमीन 3 बीघा दर्ज 32 बीघा, 7-जय प्रकाश सिंह पुत्र लल्लू सिंह 9131/1039 जमीन 18 बीघा दर्ज 21 बीघा इन सात किसानों के सट्टा पर सरकारी अभिलेखों में दर्ज जमीन से ज्यादा भूमि दर्ज कर लाभान्वित किया करने की बात कही व इस तरह के भ्रस्टाचार में सट्टा धारक व संलिप्त अधिकारी व कर्मचारियों पर कार्यवाही किऐ जाने की मांग की है। इस संबंध में रामगढ़ गन्ना समिति के सचिव कृष्णपाल मिश्र से बात की गई तो उन्होंने अपना पल्ला झाड़ते हुए बताया कि मामला संज्ञान में है लेकिन यह कार्य मेरे जिम्मेदारी में नही आता। सीनियर सी डी आई पी•लाल• जिम्मेदार है।क्योंकि यह फीडिंग का कार्य वही देखते है। जब कि सीनियर सी डी आई पी लाल से बात की गई तो उनका कहना था ऐसी कोई शिकायत मेरे पास नही आई है न ही किसी की ज्यादा जमीन फीड की गई है।बाद में दुबारा से फोन करके बताया कि शिकायत की कॉपी ढूढने पर नही मिल रही है दुबारा भिजवा दीजिये।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.