जितेन्द्र सिंह (विकास) नदीम चौधरी न्यूज वन इंडिया रिपोर्टर नानपारा

बहराईच के भारत नेपाल सीमा पर डेढ दशक से मानव तस्करी के विरूद्ध काम कर रही देहात संस्था की रूपैडीहा टीम को नेपालगंज सूत्रों से ज्ञात हुआ कि कुछ युवक, नेपाल से एक नाबालिग लडकी को लेकर बिछिया की ओर से मुंबई की ओर जाने वाले हैं।
उक्त सूचना सीमा पर तैनात सशस्त्र सीमा बल को देते हुए देहात संस्था के कार्यकर्ता निगरानी में लग गये।

तभी जनपद बहराइच के सुजौली थाना क्षेत्र अंतर्गत भारत नेपाल सीमा पर एसएसबी 70 वी वाहिनी के सीमा चौकी कतर्नियाघाट व सीमा चौकी 82 की सयुंक्त गस्त के दौरान जवानों ने पिलर संख्या 693 व 693/1 के बीच संदिग्ध अवस्था में नेपाल से भारत आ रहे दो युवकों के साथ एक बालिका को रोका ।

पूछताछ के दौरान मामला महिला तस्करी का मालूम हुआ । एसएसबी जवानों ने सूचना तत्काल नेपाल पुलिस और नेपाल की स्वैच्छिक संस्था व भारत की ओर काम कर रही देहात संस्था की मानव तस्करी रोधी टीम को दिया।
70 वी वाहिनी बर्दिया 82 बीओपी के निरीक्षक सभाजीत कुमार व संदीप के सिंह ने बताया कि यह दो युवक सचिन 28 पुत्र गौरा , भैरव बादी 50 पुत्र बलिराम बादी निवासी गण श्रीगाँव वार्ड नं0 6 जिला डांग नेपाल के हैं ।
जो श्रीगाँव डांग की ही निवासी बालिका मनीषा नेपाली 12 पुत्री राजकुमार नेपाली को आज सुबह तस्करी के लिए मुम्बई ले जा रहे थे ।

युवकों से पूछे जाने पर बताया कि बालिका के पिता से दस हजार रुपये में बालिका को खरीद कर लाए हैं । पूछताछ के बाद महिला तस्कर दोनों युवकों को नेपाल पुलिस के धनौरा चौकी पर तैनात एस आई खुशीराम चौधरी व बालिका को नेपाल के महिला तस्करी रोधी संस्था सनाहत हारू की बॉडर गार्ड सरिता और उजेली चौधरी के हवाले कर दिया ।

इस दौरान एसएसबी 70वी वाहिनी के कांस्टेबल जीडी एस संकरा राव , सेवक कांत यादव , राहुल आदि मौजूद रहे ।

सोमवार को भी बर्दिया 82 बीओपी पर नेपाल से भारत तस्करी के लिए आ रही तीन बालिकाओं को जवानों ने पकड़ कर नेपाल पुलिस को सौंप दिया था ।

देहात संस्था के मुख्य कार्यकारी डा० जितेन्द्र चतुर्वेदी ने बताया कि पहले मानव तस्कर भारत नेपाल सीमा के रूपैडीहा के रास्ते मानव तस्करी करते थे। किंतु विगत कुछ वर्षों में देहात संस्था द्वारा मानव तस्करी के विरूद्ध अपनी गतिविधियां तेज करने व सशस्त्र सीमा बलों की सक्रियता के चलते अब ये मानव तस्कर थाना -सुजौली के बिछिया क्षेत्र के रास्ते अपनी गतिविधियां बढा रहे हैं । किंतु इनके मंसूबे कामयाब नही होने दिए जाएंगे।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.