भारत में 4 करोड़ से ज्यादा मरीज थायरॉयड से पीड़ित

लखनऊ 24 मई 2019 – अगर हम कहें की शुरुआती दौर में लोग थाइरायड रोग को समझ नहीं पाते है तो गलत नहीं होगा क्योंकि इस बीमारी में कई प्रकार की दिक्कत होती है । गले में सूजन, खाना निगलने में परेशानी, हाथ कांपना, या ठंड अधिक लगती हो इन परेशानियों को नज़रअंदाज़ न करें क्योंकि ये सारे लक्षण थाइराइड रोग की तरफ इशारा करते है ।

अपोलोमेडिक्स सुपर स्पेशलटी हॉस्पिटल डाक्टर मयंक सोमानी सीईओ एम.डी ने बताया कि अनियंत्रित माहवारी, वजन बढ़ना या थकान रहना, वजन घटना या बढ़ना, धड़कन तेज होना या अधिक पसीना आना, घेंघा रोग, आवाज में बदला भी थाइरायड रोग के कारण होता है । उन्होंने यह भी बताया कि थाइरायड की गोली हमेशा खाली पेट खानी चाहिए और खाने के आंधे घंटे के बाद तक कुछ नहीं खाना है। यदि किसी दिन दवा लेना भूल जाए तो उस दिन की बाद में भी गोली ले सकते हैं।

उन्होने बताया कि भारत में 4 करोड़ से ज्यादा मरीज थायरॉयड विकार से ग्रसित हैं। थायरॉयड विकारों में से सबसे आम हाइपोथायरायडिज्म है, जो कि 25 में से 1 से 10 में से 1 को प्रभावित करता है। जब थायरॉयड ग्रंथि शरीर की जरूरत को पूरा करने के लिए पर्याप्त थायरॉयड हॉर्मोन नहीं बना पाती है तब हाइपोथायरायडिज्म होता है। यह पुरुषों की तुलना में महिलओं को अधिक प्रभावित करता है।

उन्होंने बताया कि हाइपोथायरायडिज्म के विभिन्न प्रकार के लक्षण हो सकते है जैसे उदासी, थकान, बालों का झड़ना, सर्दी, कब्ज़, खीची त्वचा, सेक्स इच्छा में कमी, बांझपन और वज़न में वृद्धि। 35 साल के ऊपर हर व्यक्ति को थायरॉयड की जाँच करवाना चाहिए। डायबिटीज और हार्ट डिसीज के बाद यह सबसे ज्यादा होने वाली बीमारी है। आमतौर पर महिलाओं को मेनोपॉज के समय थायरॉइड का खतरा ज्यादा रहता है और वो इस बीमारी के लक्षणों को गंभीरता से नहीं लेती, क्योंकि कई बार तो वो इसे समझ ही नहीं पाती हैं।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.