लखनऊ, जून। हमने खुद को जाति, नस्ल, संस्कृति और देशों के बीच बांट लिया है, लेकिन एक चीज है, जो अभी भी नहीं बंटी और वह है प्रेम। इसमें उम्र, लिंग, दूरी की बाधायें शामिल हैं, लेकिन इसे अभी तक जाति की बाधाओं में बांटा नहीं जा सका है। ब्लाॅकबस्टर फिल्म ‘सैराट‘ के हिंदी रूपांतरण के साथ एंड टीवी नया रोमांटिक ड्रामा ‘जात न पूछो प्रेम की’ पेश करने जा रहा है। ‘जात न पूछो प्रेम की‘ में मशहूर टेलीविजन अभिनेता किंशुक वैद्य और नवोदित अभिनेत्री प्रणाली राठौड़ की जोड़ी लीड किरदारों की भूमिका में है। शो के प्रमोशन के सिलसिले में किंशुक वैद्य और प्रणाली राठौड़ आज ‘नवाबों के शहर‘ आये।
‘जात न पूछो प्रेम की’ शो में मुख्य किरदार निभाने वाले कलाकार किंशुक वैद्य और प्रणाली राठौड ने राजधानी में पत्रकारों के साथ बातचीत में कहा कि शो की कहानी उत्तर प्रदेश के गाजीपुर की ग्रामीण पृष्ठभूमि पर आधारित है। जात न पूछो प्रेम की में निषिद्ध प्यार की कहानी दिखाई गई है। यह एक युवा दलित लड़के बादल और एक ऊंची जाति की ब्राह्मण लड़की सुमन की कहानी है, जो अपने समाज एवं परिवार में मौजूद जाति प्रणाली के खिलाफ अपने प्यार के लिये लड़ते हैं। इन दो प्रेमियों की उम्मीदों और संघर्ष से भरपूर इस रोमांटिक ड्रामा में जातिप्रथा की कड़वी सच्चाई को दिखाई गया है, जो आज भी प्रेमियों और लोगों के दिमाग में मौजूद हैं।
शाईका टेलीफिल्म्स और काॅकक्रो एन्टरटेनमेंट द्वारा संयुक्त रूप से निर्मित इस शो में एक ऐसी प्रेम कहानी दिखाई गई है, जो जातिगत प्रेम पर आधारित है। इस शो में दिग्गज अभिनेता साई बल्लाल एक दमदार निगेटिव भूमिका को एक बार फिर निभायेंगे। ‘जात न पूछो प्रेम की’ का प्रसारण 18 जून से सोमवार से शुक्रवार, रात आठ बजे एंड टीवी पर प्रसारित किया जायेगा।
किंशुक और प्रणाली ने कहा कि ‘नवाबों के शहर‘ के लोगों से मिलकर बेहद खुशी मिली है। पर्दे पर विभिन्न किरदारों को निभाने के बारे में टेलीविजन अभिनेता किंशुक वैद्य ने कहा, ‘‘जात न पूछो प्रेम की का हिस्सा बनकर मुझे बेहद खुशी हो रही है, जोकि सुपरहिट फिल्म सैराट का रूपांतरण है। इसमें मेरा किरदार बादल एक साधारण युवक है, जिसका ताल्लुक एक गरीब दलित परिवार का है। उसने बचपन से लेकर अब तक अपनी जिंदगी में जाति से संबंधित कई भेद-भाव का सामना किया है। लेकिन एक और कड़वी सच्चाई यह है कि उसे एक ब्राह्मण लड़की सुमन से प्यार हो जाता है और तब जात-पात की यह बाधा और भी बड़ी हो जाती है।‘‘ उन्होंने आगे कहा, ‘‘मैं मेरे प्रशंसकों और दर्शकों से अनुरोध करना चाहूंगा कि वे नये ट्राई नियमों के अनुसार जी चैनलों के बुके को सब्सक्राइब करें।
छोटे पर्दे पर डेब्यू करने के बारे में प्रणाली राठौड़ ने कहा, ‘‘मैं ‘जात न पूछो प्रेम की‘ से बेहतर टेलीविजन पर अपना कॅरियर शुरू करने के बारे में सोच भी नहीं सकती थी। मैं इसमें एक युवा, साहसिक और आधुनिक लड़की सुमन की भूमिका निभा रही हूं, जिसकी परवरिश लग्जरी में हुई है, लेकिन वह सभी पारंपरिक मूल्यों के साथ जुड़े रहने में विश्वास करती है। उच्च पारिवारिक प्रतिरोध का सामना करने के बावजूद, उसका प्यार सच्चा है और वह उन परिणामों से नहीं डरती, जिसका सामना उसे करना पड़ सकता है। वे सच से दूर रहना नहीं चाहते, बल्कि अपने आस-पास के लोगों की मानसिकता को बदलने के लिये संघर्ष करना चाहते हैं।‘‘

‘सैराट, झाला जी’ के मधुर टाइटल ट्रैक ने अपने मुग्ध कर देने वाली धुनों और मूल रूप से अजय-अतुल की जोड़ी द्वारा कम्पोज की गई प्रभावी आॅर्केस्ट्रियल टच से लाखों दिलों के तारों को छेड़ा है। ‘जात ना पूछो प्रेम की’ इस गाने के हिंदी रूप को प्रस्तुत करेगा, जो इस शो का टाइटल ट्रैक होगा। इसे यासीर देसाई और ऐश्वर्या पंडित ने गाया है और यह भारत में विभिन्न म्यूजिक स्ट्रीमिंग प्लेटफाॅम्र्स पर उपलब्ध होगा।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.