सीतापुर-अनूप पाण्डेय, महेन्द्र कुमार/NOI-उत्तरप्रदेश जनपद सीतापुर के रेउसा जहां एक तरफ योगी सरकार स्वास्थ्य व्यवस्था पर काफी मेहरवान नजर दिख रही है । पेंशेट को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रो पर अच्‍छी सुदृढ़ व्यवस्था न मुहैया कराने के नाम पर स्वास्थ्य पर करोड़ो रुपये खर्च कर लापरवाही बरतने वालो पर कडे कानून बना रखे है ।

बावजूद रेउसा सीएचसी की व्‍यावस्‍थाएं परवान चढ़ गई । रेउसा सीएचसी का मामला उजागर गत हो की 15 जून2019 की देर रात उस समय पोल खुलती नजर आयी । जब थाना रेउसा के ग्राम अमलोरा निवासी रामकुमार मिश्र की पत्‍नी सुनीता मिश्र को देर रात छत के जीने पर चढ़ते समय एक जहरीले सर्प ने डस लिया । जिसकी हालत बिगड़ने पर परिजन रेउसा सीएचसी लेकर आए डॉक्टर दिनेश वर्मा ने तत्काल आकर सुनीता को देखा देखने के बाद दवा के लिए फार्मासिस्ट की खोज की जाने लगी तो पता चला अनूप वर्मा दवा स्टोर रूम की चाबी अपने पास रख कमरे में दारू पे सो रहे हैं जब तीमारदार व अस्पताल के कर्मचारी कमरे पर बुलाने तो घंटों जगाने के बाद भी नहीं जागे । फार्मासिस्ट की पत्नी बोली की थके हैं सो रहे हैं उठेंगें नहीं । काफी देर तक डॉक्टर भी परेशान रहे सुनीता दर्द से घंटों कराहती रही और चाबी भी नहीं मिली फार्मासिस्ट भी नहीं उठे आखरी में सुनीता देवी मिश्रा को परिजनों में लेकर चले गए और रात होने के कारण प्राइवेट भी नहीं मिला इलाज करीब 2 घंटे बाद मिली चाबी फिर हुआ इलाज वही प्रभारी अनंत मिश्रा का रटारटाया बयान की जांच की जाएगी ।।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.