किसान डिग्री कालेज में आयोजित हुआ बालिका सुरक्षा जागरूकता कार्यक्रम,,,,,,,,,बहराइच :(अब्दुल अजीज)NOI:- प्रदेश की बालिकाओं की सुरक्षा को सुदृढ़ करने के उद्देश्य से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर 01 से 31 जुलाई 2019 तक संचालित ‘‘जुलाई अभियान’’ (कवच) के 13वें दिन स्व. ठाकुर हुकुम सिंह किसान स्नातकोत्तर महाविद्यालय के आडिटोरियम में आयोजित कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए किसान पी.जी. कालेज के प्राचार्य डॉ एस. सी .त्रिपाठी ने कहा कि समाज में हो रहे बालिकाओं के साथ शोषण के लिये बालिकाओं को अपनी चुप्पी तोड़नी होगी। उन्होंने कहा कि किसी प्रकार के अत्याचार को सहन करना भी अत्याचार है। डा. त्रिपाठी ने बालिकाओं का आहवान्ह किया कि यदि कोई ऊॅच-नीच होती है तो इसकी सूचना तत्काल अपने अभिभावकों, विद्यालय अथवा पुलिस को दें ताकि दोषी व्यक्तियों को दण्डित किया जा सके।
कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए जिला प्रवेशन अधिकारी बी.पी. वर्मा ने महिला एवं बालिका विकास के लिए संचालित विभिन्न योजनाओं के बारे में जानकारी प्रदान की। जबकि देहात संस्था के मुख्यकार्य अधिकारी डॉ जितेन्द्र चतुर्वेदी ने देश में बढ़ रहे बालिकाओं पर अत्याचार पर प्रकाश डालते हुए कहा कि दसकी मुख्य वजह बालिकाओं का चुप रह जाना है। डा. चतुर्वेदी ने भी बालिकाओं का आहवान्ह किया अत्याचार के विरूद्ध अपनी चुप्पी को विराम दें। इस अवसर पर उन्होंने महिला एवं बालिका सशक्तिकरण से सम्बन्धित गगनभेदी नारे लगवाकर कार्यक्रम में मौजूद बालिकाओं को जागरूक किया।
बाल कल्याण समिति के सदस्य संजय अवस्थी ने किशोर न्याय अधिनियम पर विस्तृत प्रकाश डाला तथा सवेरा कार्यक्रम से जुड़े सतेन्द्र पांडेय व रिया सिंह ने महिला एवं बालिका सुरक्षा के दृष्टिगत स्थापित विभिन्न एजेन्सियों एवं हेल्पलाइन टोलफ्री नम्बरों 1090, 1098. 181, 100 के बारे में जानकारी प्रदान करते हुए महिला हेल्पलाइन नम्बर पर कोई महिला अधिकारी द्वारा ही फोन रिसीव किया जायेगा जिससे कोई भी बालिका व महिला निःसंकोच होकर अपनी शिकायत दर्ज करा सकती हैं, ताकि तत्काल कार्रवाई की जा सके। इस अवसर पर जिला बाल संरक्षण इकाई से बाल संरक्षण अधिकारी शिविका मौर्या, यूनीसेफ प्रतिनिधि अनिल कुमार सहित महाविद्यालय का शिक्षण स्टाफ तथा बड़ी संख्या छात्राएं मौजूद रहीं।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.