सीतापुर -अनूप पाण्डेय, राकेश पाण्डेय/NOI-उत्तरप्रदेश जनपद सीतापुर के हरगाँव बीते शाम लगभग आठ बजे गोलागोकर्णनाथ से कांवर चढ़ाकर वापस आ रहे एक कांवरिया की पौराणिक सूर्यकुण्ड तीर्थ में नहाते समय डूबने से मौत हो गई । सूचना पाकर पहुंची पुलिस ने स्थानीय गोताखोरों की मदद से डूबे कांवरिया को निकलवाकर सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र हरगाॅव को भिजवाया।
मिली जानकारी के अनुसार थाना ककोतवाली लहरपुर क्षेत्र के ग्राम अकैचनपुर टप्पा निवासियों का 65 सदस्यीय कांवरियों का जत्था शुक्रवार को गांव में स्थित माता जी के मंदिर से कांवर लेकर ट्रैक्टर ट्रालियों से गोलागोकर्णनाथ के लिये रवाना हुआ ।

उसी कांवड़ में 19 वर्षीय निर्मल पुत्र रामकिशोर भी अपने दो भाइयों शैलेन्द्र व अनुज के साथ कांवड़ यात्रा में शामिल हुआ था। कांवड़ यात्रा के दौरान निर्मल भगवान शंकर जी का रोल भी कर रहा था।
बीती शाम वापसी में कांवर जैसे ही हरगाॅव कस्बे में स्थित पौराणिक सूर्यकुण्ड तीर्थ पर पहुंची सभी कांवरिया रुककर प्राचीन गौरीशंकर भोलेनाथ की आरती में शामिल होने के लिये स्नान करने लगे इस दौरान निर्मल भी तीर्थ में नहाने लगा , तैर न पाने के कारण नहाते समय निर्मल गहरे पानी में चला गया।
मौके पर मौजूद उसके बड़े भाई शैलेन्द्र ने बताया मेरे सामने वह अचानक गहरे पानी में डूबने लगा यह देख वह चिल्लाया तो सभी लोग उसे ढूंढ़ने का प्रयास करने लगे परन्तु वह मिल नहीं सका।
सूचना पाकर मौके पर पहुंचे प्रभारी निरीक्षक अनिल कुमार पाण्डेय उप निरीक्षक गिरिजा शंकर सिंह आरक्षी राकेश राना व अन्य पुलिस बल ने स्थानीय गोताखोरों का एक दल बुलवाया जिसने तैराक कांवरियों के साथ कड़ी मशक्कत से एक घंटे बाद उस डूबे हुये कांवरिये को तीर्थ से निकाला और उसे तत्काल डायल हन्ड्रेड पुलिस अपनी सरकारी गाड़ी से सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र हरगाॅव ले गये जहाँ चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया।इस दौरान सी.ओ.सदर महेन्द्र प्रताप सिंह और भाजपा युवा मोर्चा के पूर्व जिला महामंत्री उदित बाजपेई मौके पर पहुंच गये।
वहां पर मौजूद लोगों ने बताया कि इस प्राचीन पौराणिक सूर्यकुण्ड तीर्थ की गहराई अधिक है और वर्तमान समय में तीर्थ में काफी जल भरा हुआ है साथ ही तीर्थ में चारों ओर सीढ़ियां न होकर केवल एक ओर ही सीढ़ियां बनी हुई हैं । नागरिकों की सुरक्षा हेतु स्थानीय नागरिकों ने नगर पंचायत हरगांव के जिम्मेदारों से तीर्थ में जाल डलवाने की मांग की है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.