सीतापुर-अनूप पाण्डेय, पवन कुमार/NOI-उत्तरप्रदेश जनपद सीतापुर में राष्ट्रीय लोकदल के मध्य जोन इंचार्ज प्रवीण सिंह ने मुख्यमंत्री को संबोधित ज्ञापन सिटी मजिस्ट्रेट सीतापुर को सौंपा ज्ञापन में कहा है कि जनपद सीतापुर में हो रही मौतों की तरफ शासन जरा सा भी ध्यान दे तो हो सकता है कि जनपद मे जो मौतों का शिलसिला चल रहा है वह खत्म हो जाय जनपद सीतापुर के विकास खंड गोदलामऊ में लगभग इस वर्ष 33 लोगों की अभी तक मौत हो चुकी है जबकि पिछले वर्ष 2018/मे 100 से अधिक लोगों की मौतें हुई थी लेकिन यहां का स्वास्थ्य विभाग ना तो पिछले वर्ष ही यह बता पाया कि मौत का असली कारण क्या है न ही इस वर्ष बता पा रहा है केवल रटा रटाया जबाब देते है की इन लोगों को मलेरिया डेगू जैसी बीमारी से बुखार आ रहा है लेकिन अगर मलेरिया है और उनको जानकारी है तो उनके द्वारा अब तक समुचित इलाज क्यों नहीं दिया गया अगर वह समय रहते गांव में समुचित इलाज दे देते तो शायद इतनी मौतें ना होती लेकिन स्वास्थ्य विभाग पर इन मौतों का कोई भी फर्क नहीं पड़ता जनपद सीतापुर के मुख्य चिकित्सा अधिकारी आरके नैय्यर व सीएचसी गोंदलामऊ अधीक्षक धीरज मिश्रा जो वर्ष 2018 में भी इसी केंद्र पर तैनात थे और आज भी तैनात हैं जबकि इतनी मौतें हो जाने के बाद भी स्वास्थ्य विभाग लखनंऊ ने मुख्य चिकित्सा अधिकारी को जनपद से नही हटाया और ना तो मुख्य चिकित्सा अधिकारी आरके नय्यैर ने सीएचसी के अधीक्षक धीरज मिश्रा को हटाया न ही उन पर कोई कार्यवाही की जबकि स्वास्थ्य मंत्री जय प्रताप सिंह स्वयं आए और सीएचसी का निरीक्षण भी किया लेकिन माननीय राज्य मंत्री स्वास्थ्य ने जिन घरों में मौतें हुई उन घरों को जाना मुनासिब नहीं समझा और न ही बीमार लोगों का हाल जानने गांव तक जाना उचित समझा उत्तर प्रदेश के माननीय मंत्री जी हैं जो जनता का हाल पूछने का समय भी नहीं रखते है माननीय मुख्यमंत्री महोदय योगी आदित्यनाथ जी से निवेदन हैं कि जनपद सीतापुर के सीएचसी गोंदलामऊ में हो रही मौतों की जांच कराई जाए और जिस परिवार मैं मौत हुई है उस परिवार को उचित मुआवजा राज्य सरकार द्वारा तुरन्त दिया जाए जिससे उसका परिवार व उस परिवार के छोटे छोटे बच्चे पल सके ।और मुख्य चिकित्सा अधिकारी आरके नय्यैर व गोदलामाऊ अधीक्षक धीरज मिश्रा को तुरन्त हटाया जाये और इनके द्वारा बिमारी जानते हुये भी समय से जनता को समुचित ईलाच क्यो नही दिया जा सका और बीमारी फैलने से हुई मौतो की जांच कराते हुए इनके खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कराया जाए जिससे अन्य कोई अधिकारी द्वारा इस तरह से लापरवाही ना करें जिससे जनता को इस प्रकार की हानि हो उत्तर प्रदेश सरकार से यह भी मांग है की गोंदलामऊ की जांच शासन से कराई जाए की हर वर्ष यहां क्यों मलेरिया और डेंगू जैसी बीमारी फैलती है और बहुत परिवारों के मुखिया या बच्चों की मां या बच्चे मौत के मुंह में हर वर्ष समा जाते हैं इसकी जांच कराई जाए अगर उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा मांगो पर कार्यवाही नहीं करती वा सीएचसी अधीक्षक को नही हटाती है और उचित कार्यवाही नही करती तो राष्ट्रीय लोक दल के लोग व पदाधिकारी गण व कार्यकत्तागण एक सप्ताह बाद जनपद पर विशाल धरना प्रदर्शन करने को बाध्य होंगे जिसकी समस्त जिम्मेदारी जिला प्रशासन व राज्य सरकार उत्तर प्रदेश लखनंऊ की होगी।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.