सीतापुर-अनूप पाण्डेय/NOI-उत्तरप्रदेश के मुखिया योगी आदित्यनाथ ने सभी जिला अधिकारियों को सख्त निर्देश दिया था कि अपने- अपने जनपदों में झोलाछाप डॉक्टरों पर सख्त से सख्त कार्यवाही की जाए मगर सीतापुर जनपद के कसमंडा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के क्षेत्र में झोलाछाप डॉक्टर मकड़ी की तरह अपना- अपना जाल फैला रखा है ।वही नाबालिक लड़के के द्वारा इंजेक्शन लगाया जा रहा ।

जब मीडिया टीम ने पड़ताल किया तो कसमंडा क्षेत्र के मास्टर बाग में अपने को डॉक्टर लिखने वाले पुतान के बिगड़े बोल सामने आये जो कि फर्जी तरीके से धड़ल्ले से मरीज देखते नजर आए और भर्ती कर उनका उपचार कर रहे हैं ना तो डिग्री है ना ही रजिस्ट्रेशन है व बंगाली भी धड़ल्ले से अपनी दवा की दुकान चला रहे हैं सबसे बड़ी चौका देने वाली बात तब सामने आई जब मीडिया टीम को रसूखदारो से फोन पर धमकी दी जाने लगी वही पत्रकारों की फोटो और अभद्रता करने पर उतारू हो गए कहीं न कहीं इन झोलाछाप डॉक्टरों को राजनीति व लोकल के अपने आपको पत्रकार कहने वालों का संरक्षण मिला हुआ है क्योंकि फोन पर कुछ पत्रकारों से वार्ता भी कराने लगे साथ ही झोलाछाप डॉक्टर पुतान कहने लगे कि मेरी बहुत ऊंचे तक पहुंच है सबसे बड़ा सवाल यह उठता है कि क्या यह स्वास्थ्य विभाग के महकमे को नहीं पता है कि कहां-कहां पर फर्जी तरीके से नर्सिंग होम की तरह मेडिकल स्टोर व गली व चौराहे पर डॉक्टरी की दुकान संचालित कर रहे हैं।

जब इस संबंध में कसमंडा सीएससी अधीक्षक से बात की गई तो उन्होंने जांच कर कार्यवाही करने का आश्वासन दिया मगर यह पहले भी खबर प्रकाशित की जा चुकी है मगर अभी तक कोई भी कार्यवाही इन झोलाछाप डॉक्टरों पर नहीं की गई बस यही रटा रटाया शब्द आता है कि जांच कर कार्यवाही की जाएगी मगर कार्यवाही की जाएगी तो कब की जाएगी यह सबसे बड़ा प्रश्न चिन्ह स्वास्थ्य महकमे पर बना हुआ है और देखना भी है कि कब इन झोलाछाप डॉक्टरों पर कार्यवाही की जाती है ।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.