सीतापुर-अनूप पाण्डेय/NOI-देश की अर्थव्यवस्था और उत्तर प्रदेश की कानून व्यवस्था बदहाल है । निजीकरण चरम पर है । सरकारी नौकरियां कम होती जा रही हैं । आउटसोर्सिंग से नौकरी कर रहे नौजवानों का शोषण हो रहा है । उपभोक्ता को लहसुन प्याज महंगा खरीदना पड़ रहा है जबकि किसान को उपज का सही दाम नहीं मिल रहा है । संविदा कर्मियों की कोई सुध लेने वाला नहीं है । ऐसे में भाजपा में बने रहना संभव नहीं है । यह बात आज सीतापुर में आयोजित प्रेस वार्ता के दौरान भाजपा नेता आर पी सिंह चौहान ने कहीं उन्होंने कहा कि राजनीति जनसेवा का माध्यम है और जनता के सवालों पर चुप रहना स्वयं और समाज के साथ धोखा है । उन्होंने कहा कि देश की बैंकिग व्यवस्था ध्वस्त हो रही है । रेल और हवाई जहाज सहित तमाम सार्वजनिक उपक्रम निजीकरण की भेंट चढ़ रहे हैं । अफसरशाही चरम पर है । अधिकारी मनमानी पर आमादा हैं । भू माफिया खनन माफिया बेखौफ हैं ।बेरोजगारी रोजगार व्यापार और आर्थिक स्थिति पर सरकार बात नहीं करना चाहती । इसलिए मैं अपने आपको भाजपा से अलग करता हूँ । उन्होंने कहा कि गरीब किसान मजदूर की क्रय शक्ति लगातार घटती जा रही है । देश में आर्थिक असमानता बढ़ रही है । रोजगार के अवसर घट रहे हैं । आगे की योजना पर पूछे गए सवाल के जबाब में उन्होंने बताया कि गरीबों किसानों मजदूरों खुदरा व्यापारियों और संविदाकर्मियों के लिए जो भी बन पड़ेगा करेंगें । राजनीति में संघर्ष के रास्ते पर आगे बढ़ेंगे ।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.