सीतापुर-अनूप पाण्डेय,आशीष गौड़/NOI-उत्तरप्रदेश जनपद सीतापुर के महान सूफी संत हजरत रमजान अली शाह मुरली वाले बाबा के उर्स के अवसर पर नातिया मुशायरे का आयोजन किया गया जिस की सदारत समाजसेवी हाजी जावेद अहमद नेकि और मुख्य अतिथि के रूप में सर्राफा यूनियन लहरपुर के अध्यक्ष रियाज अहमद बबलू उपस्थित हुए निजामत अनवर बिस्वानी ने कि इस मौके पर दो दर्जन शायरों ने अपने कलाम पेश किए रात के अंतिम पहर तक चले इस मुशायरे में बड़ी संख्या में अकीदतमंद मौजूद रहे मुशायरे के संयोजक जेड आर रहमानी एडवोकेट ने अतिथियों और शायरों का स्वागत किया मुशायरे का उद्घाटन कस्बा इंचार्ज रोहित दुबे ने किया उन्होंने शायरों को स्मृति चिन्ह भेंट किए मुशायरे के मुख्य अतिथि रियाज अहमद बबलू ने हाजरीनको संबोधित करते हुए कहाकि दरगाहोपर होने वाली नूरानी महफिलों में शिरकत करने से दिल को सुकून और रूहानी फैज मिलता है कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे समाजसेवी हाजी जावेद अहमद ने अपने विचार प्रस्तुत करते हुए कहाकि मौजूदा दौर में मुशायरो की अहमियत और भी बढ़ जातीहै क्योंकि मुशायरे हमारी तहजीब की तर्जुमानी करते है विश्व मानवाधिकार परिषद राष्ट्रीय उपाध्यक्ष सलाहउद्दीनगौरी ने संबोधित करते हुए कहाकि नातिया मुशायरो में शिरकत करना सवाब का काम है क्योंकि नात पाक का पढ़ना और सुनना दोनों सवाब है मुशायरे का आगाज कारी मुख्तार अहमद ने तिलावत ए कुरान पाक से किया
अनवर बिस्वानी ने अपना कलाम इस तरह पेश किया
एक उम्र कट गई है इसी इंतजारमें
पहुंचेंगे एक रोज नबी के दयार में
मुजीब सीतापुरी ने पढ़ा
सारे नबियों के हैं सरदार मदीने वाले
मेरे आका मेरे सरकार मदीने वाले
गोहर लहर पुरी ने कहा
इस कदर मेरी दुआओं में असर आ जाए
नात कहने का खुदा मुझको हुनर आ जाए
सफीकबिस्वानी ने कहा
ए काश पहुंच जाते इक बार मदीनेमें
करतेदर ए अकदस का दीदार मदीने में
लखीमपुर से आए इकबाल अकरम वारसी ने कहा
वायेज आबिद व जाहिद सब शराबी हो गए
आप की आमद हुई मौसम गुलाबी हो गए
डॉ अफजल लहरपुरी
दर हक़ीक़त गुलाम ए नबी आप हैं
और अल्लाह के वली आप हैं इस मौके पर आफाकबिस्वानी सज्जाद लखीमपुरी सगीर भारती डॉक्टर अजहर खैराबादी मोबीन लहर पुरी मिसबाहुद्दीन अंसारी आदि ने भी अपने कलाम पेश किए
दरगाह के सेक्रेटरी हाजी सोहराब अली कादरी ने महफिल में शरीक तमाम शायरों और मेहमानों का शुक्रिया अदा किया वार्षिक उर्स के मौके पर दरगाह पर फातिहा खुबानी जुलूस ए गागर और लंगर का आयोजन किया गया जिसकी निगरानी दरगाह के मुतवल्ली हाजी मुन्नन अली ने किया इस मौके पर लखीमपुर के सामाजिक कार्यकर्ता मोहम्मद शकील खान “सागर” मोहम्मद रूस्तम अली शफीक कुरैशी अब्दुल हमीद डॉक्टर जर्रार अली मोहम्मद अफाक मोहम्मद शोएब कुरैशी समीर राईन साबिर अली रजीउद्दीन अंसारी मोहम्मद ताहिर अंसारी जफर अली मोहम्मद आफताब मोहम्मद यूनुस कुरैशी सलाउद्दीन इस्लामुद्दीन अंसारी हाजी जी कमाल अहमद मौलाना सिराज खान निर्मल निगम डॉक्टर मुमताज अहमद मास्टर फुरकान अली मास्टर रफीक अंसारी आदि मौजूद थे

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.