सीतापुर-अनूप पाण्डेय/NOI-उत्तरप्रदेश जहां सरकार भ्रष्टाचार मुक्त करने की बात कर रही है वही सीतापुर जनपद के निर्मित जांच अधिकारी भ्रष्टाचार में लिप्त नजर आ रहे हैं ताजा मामला सीतापुर जिले के गोंदलामऊ ब्लाक का है गोदलामऊ ब्लाक क्षेत्र में ग्राम पंचायत की जांच करने पहुचे थे जाँच टीम बिना जांच किये काटने लगे ग्राम प्रधान की दावत ग्रामीण हुए उग्र ।

आप को बताते चले सीतापुर के ब्लाक गोदलामऊ ग्राम पंचायत ढकहा में नामित जांच टीम
ग्रामवासियो के शिकायत के बाद जांच करने पहुची थी जाँच टीम,
ग्राम प्रधान पर लगा था भ्रष्टाचार का आरोप, प्रधानमंत्री आवास, 14 वित्त में भ्रष्टाचार का बड़ा खेल खेला गया था जिसमें 14 वित्त में खड़ंजा नाली निर्माण प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास व शौचालय का पैसा कागजो में ही डकार गये ग्राम प्रधान जिसकी शिकायत ग्रामवासियो ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से की उसके बाद जिलाधिकारी सीतापुर ने जांच करने ले लिए जिले से प्रदीप कुमार सहायक अभियंता ,अमरेश मणि तिवारी सहायक आयुक्त सहकारिता को जांच सौप दी थी ।

जिसके बाद दिनांक 08 जनवरी 2020 को जांच करने उपरोक्त दोनों अधिकारी गाव में पहुँचे थे
वहा पर मौजूद 500 लोगों ने अपनी शिकायतें समक्ष अधिकारी के सामने रखी लेकिन उपरोक्त अधिकारी अमरेश मणि ग्राम प्रधान से मिलीभगत करके और दवतब खा कर चलते बने ।

ग्रामीणों का आरोप जाँच करने आये अधिकारियों ने किसी भी आवास के पात्र व्यक्ति तथा शौचालय में घर के पात्रता श्रेणी में लोगों से कोई भी पुछताछ नही किया, आरोप है कि ग्राम प्रधान ने अधिकारियों से मिलकर सरकारी पैसे का दुरुपयोग किया है न ही किसी पात्र व्यक्ति के शौचालय बनवाये है न ही किसी को पात्रता श्रेणी में आने वाले व्यक्ति को आवास मिला ।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.