इरफान शाहिद:NOI।

उत्तर प्रदेश के हालात भी कोरोना को लेकर चिंता जनक ही है भारत मे ये छठे नम्बर का राज्य है जहां कोरोना पीड़ितों की संख्या ज्यादा है और आये दिन इसमें बढ़ोत्तरी हो रही है बावजूद इसके प्रदेश में लाकडाउन 4 के बाद ना सोशल डिस्टनसिंग पर ज़ोर दिया जा रहा है और ना ही किसी तरह कोई कोई रोक टोक है उसपर से प्रदेश सरकार भी इसको लेकर संजीदगी नही दिखा रही जो चिंता की बात है सरकार ने लखनऊ मेट्रो को भी 25 मई से खोलने का आदेश दे दिया है।

आपको बता दें कि यूपी में कोरोना से कुल 152 जानें जा चुकी हैं ।यूपी में कोरोना मरीजों की संख्या में लगातार बढ़ोतरी दर्ज की जा रही है।
उत्तर प्रदेश में शुक्रवार को कोविड—19 संक्रमण से 14 और रोगियों की मौत हो गयी और अब इस संक्रमण से जान गंवाने वालों की संख्या बढ़कर 152 हो गयी है जबकि 220 नये मामले सामने आये है। स्वास्थ्य विभाग की ओर से बताया गया कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण के कुल 5735 मामले हैं, जिनमें से 2259 सक्रिय संक्रमण के मामले हैं और 3324 मरीज स्वस्थ होकर अस्पताल से छुट्टी पा चुके हैं।

आंकड़े बेशक डराने वाले ही नज़र आ रहे हैं लेकिन लगता है सरकार ने मूड बना लिया है कि वो अब इसे लेकर सख्त नही हो पाएगी अभी तक देश की जनता की जान की कीमत समझने वाली सरकार अचानक क्यों इतनी बदल गई ये हमारी समझ से परे है अब आपको कहीं भी ना लाकडाउन का असर दिखता होगा ना ही सोशल डिस्टेंसिंग क्योंकि जनता भी समझ चुकी है कि अब सरकार को उसकी जान से कोई सरोकार नही है जिसको बचना है वो बचे ये उसकी अपनी ज़िम्मेदारी है।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.