Breaking NewsCrimeNewsउत्तर प्रदेश

कानपुर बना बदलापुर???

दीपक ठाकुर

कानपुर का कुख्यात कानपुर में ही ढेर कर दिया गया।इसमें कोई शक नही की विकास दुबे एक शातिर अपराधी था उसने 8 पुलिसकर्मियों को भी मौत के घाट उतारा था बस उसका यही अपराध उसे इनकाउंटर की ओर ले गया।यहां पुलिस की थ्योरी पर यकीन करना मुश्किल हो रहा है क्योंकि पुलिस का कहना है कि कानपुर पहुंचने पर उस गाड़ी का हादसा हुआ जिसमें विकास दुबे बैठा था गाड़ी पलटने के बाद विकास पुलिसकर्मी की पिस्टल छीन कर भाग निकला और फायरिंग करने लगा फिर पुलिस ने आत्मरक्षा के लिए विकास पर गोली दाग दी जिससे उसकी मौत हो गई।

अब यहां ये समझना मुश्किल है कि अगर विकास दुबे को भागना ही था तो उसने उज्जैन जा कर गिरफ्तारी क्यों दी और जब उसने गिरफ्तारी दी तो अपना नाम चीख चीख कर क्यों लिया क्या विकास को ये पता था कि पुलिस उससे बदला लेने के लिए उसका इनकाउंटर कर देगी शायद हां विकास दुबे सब जानता था लेकिन उसने बचने का एक प्रयसा किया जो विफल रहा पुलिस ने मीडिया के सामने उसे पकड़ तो लिया लेकिन अज्ञात जगह पर अपनी थ्योरी के साथ उसका इनकाउंटर कर दिया मतलब साफ है पुलिस का हत्यारा पुलिस की गोली का शिकार हो गया।

यहां एक सवाल ये भी उठता है कि क्या पुलिस प्रशासन को हमारी न्यायायिक प्रणाली पे भरोसा नही रहा या सरकारी आदेश के आगे पुलिस नतमस्तक रहती है क्योंकि अगर विकास जेल जाता तो उसपर केस चलता और हो सकता है उसे कभी ज़मानत भी मिल जाती जो शायद पुलिस प्रशासन को मंजूर नही था क्योंकि उसने पुलिस को चुनौती दी थी जो विकास को भारी पड़ गई।

यूपी पुलिस की ये कार्यवाही संदेह के घेरे में ज़रूर है सवाल बहुत हैं पर जवाब रटा रटाया दिया जा रहा है पर कल से जो लगता था आज वही हुआ विकास दुबे को पुलिस ने मार गिराया जिससे उसका बदला पूरा हो गया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button
Close
Close