Breaking NewsCrime

गाजियाबाद: पत्रकार विक्रम जोशी ने तोड़ा दम, बेटियों के सामने मारी गई थी गोली

दो दिन से अस्पताल में जिंदगी और मौत से संघर्ष कर रहे थे पत्रकार विक्रम जोशी।

गाजियाबाद (उत्तर प्रदेश). राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली से सटे गाजियाबाद के पत्रकार विक्रम जोशी ने बुधवार को अस्पताल में दम तोड़ दिया। जोशी को विजय नगर इलाके में स्कूटी सवार बदमाशों ने सिर में गोली मारी थी। घटना सोमवार की है।

पत्रकार को घायलवस्था में अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां वे जिंदगी और मौत से संघर्ष कर रहे थे।

जोशी ने अपनी भांजी से हो रही छेड़छाड़ की तहरीर दी थी लेकिन पुलिस ने न उसमें कार्रवाई की और न ही किसी की गिरफ्तारी की।

एनडीटीवी की रिपोर्ट के मुताबिक, तहरीर देने से नाराज बदमाशों ने सोमवार की देर रात पत्रकार को उनकी बेटियों के सामने गोली मारी दी थी।

घटना का सीसीटीवी फुटेज भी सामने आया है, जिसमें पांच-छह बदमाश जोशी को घेरकर मार रहे हैं। तभी एक दूसरा अपराधी आता है, और उनके सिर में बिल्कुल करीब से गोली मार देता है। इसके तुरंत बाद उनकी बेटी पास में आती है और घबराई हुई मदद के लिए चिल्लाती है।

एसपी सिटी का कहना है कि मुख्य आरोपी रवि सहित अन्य गिरफ्तार कर लिए गए हैं। जबकि पत्रकार विक्रम की बहन ने आरोप लगाया, ‘अभी तक पुलिस ने जिन 9 आरोपियों को पकड़ा है वह कौन हैं हमें नहीं मालूम। इस हत्या में पुलिस चौकी इंचार्ज की शामिल हैं।’

नौकरी और आर्थिक मदद के आदेश

मामले में चौकी इंचार्ज समेत दो पुलिसकर्मियों को लापरवाही बरतने पर निलंबित कर दिया गया है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पीड़ित परिवार को 10 लाख रुपए की आर्थिक सहायता, पत्नी को नौकरी, बच्चों को निःशुल्क शिक्षा देने के आदेश दिए हैं।

एसएसपी को हटाने की मांग

पत्रकार विक्रम जोशी हत्या मामले में रिटायर्ड आईएएस सूर्य प्रताप सिंह ने एनएसए अजीत डोभाल और मुख्यमंत्री योगी को निशाने पर लिया है। उन्होंने ट्वीट कर कहा,  ‘लखनऊ में विफल होने के बाद भी एसएसपी कलानिधि नैथानी को गाजियाबाद जैसी जगह पर क्यों तैनात किया गया? क्या पहाड़ी इलाके से होने के कारण वह मुख्यमंत्री के निकट हैं?’

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button
Close
Close