Subscribe Now

* You will receive the latest news and updates on your favorite celebrities!

Trending News

News Article

Breaking News

मुम्बई पुलिस का तानाशाह रवैया,केस अब सीबीआई के सुपुर्द??? 

मुम्बई पुलिस का तानाशाह रवैया,केस अब सीबीआई के सुपुर्द???

दीपक ठाकुर

सुशांत सिंह राजूपत की तथाकथित आत्महत्या पर एक तरफ जहां मुम्बई पुलिस चुप्पी साधे दिखाई दे रही है तो वही पटना पुलिस ने इस केस में जी जान से मेहनत की है यही मेहनत मुम्बई पुलिस को रास नही आ रही थी यही कारण रहा के उसने बिहार के आईपीएस को रातो रात क्वारनटाइन करवा दिया ताकि वो इस मामले में किसी प्रकार की कोई जांच ना कर सके हालांकि ये काम बीएमसी ने किया है लेकिन पूरी महाराष्ट्रा सरकार सुशांत मामले में किस तरह का रुख अपना रही है ये सभी को मालूम हो गया है बिहार के डीजीपी ने भी मुम्बई पुलिस की कार्यवाही पर सन्देह जारी किया है

उन्होंने साफ तौर पर कहा है कि बिहार पुलिस को मुम्बई पुलिस से जान का खतरा है ये कोई छोटी बात नही है यहां महाराष्ट्र सरकार पर भी उंगली उठना लाज़मी है इन्ही सब हरकरतों से ये लगने लगा है कि वाकई दिशा और सुशांत को मरवाने का काम किया गया है जिसमे महाराष्ट्रा की सरकार और मुम्बई पुलिस भी शामिल है अगर ऐसा ना होता तो जो काम बिहार सरकार या बिहार पुलिस ने किया है वो मुम्बई पुलिस भी कर सकती थी।

लेकिन मुम्बई पुलिस फोन कॉल पर अपनी कार्यवाही करती है वो इस मामले में गुंडा पुलिस बन कर सामने आई है उसकी गुंडई से बिहार पुलिस परेशान है जो मुम्बई में गुप्त स्थान में शरण ले कर बैठ गए हैं उन्हें डर है कि उनके साथ कुछ भी अनहोनी हो सकती है एक बार केदियों की वेन में ठुसवा कर मुम्बई पुलिस ट्रेलर पहले ही दे चुकी है।

भला कोई पुलिस किसी पुलिस के साथ भी ऐसी ओच्छी हरकत करता है ऐसा पहले ना कभी देखा ना सुना पर इधर जो जो दिख रहा है उससे यही अंदाज़ा लग रहा है कि मुम्बई पुलिस और वहां की सरकार सच छिपाने में जुटी है लेकिन बिहार के लाल के लिए बिहार सरकार ने जी जान लगा दी है सुशांत के पिता के आग्रह पर सीबीआई को केस दिए जाने की सिफारिश कर दी गई है अगर ऐसा हो गया तो मुम्बई पुलिस और महारष्ट्र सरकार दोनो एक दूसरे के ऊपर अपनी खुन्नस निकालते नज़र आएंगे और देश की जनता के सामने वो सच भी आएगा जिसे ये दबाने के लिए इतना अपमानित हो रहे थे।

Related posts

Leave a Reply

Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.