reporters
इंडियन एजुटेक स्टार्टअप ‘बड़ा बिजनेस’ ने लॉकडाउन में रचा इतिहास: 6 महीने में बनाये 5 वर्ल्ड रिकॉर्ड

इंडियन एजुटेक स्टार्टअप ‘बड़ा बिजनेस’ ने लॉकडाउन में रचा इतिहास: 6 महीने में बनाये 5 वर्ल्ड रिकॉर्ड

· ‘बड़ा बिजनेस’ बिजनेस से सम्बंधित स्किल ट्रेनिंग कोर्स प्रदान करता है। यह दुनिया की पहली कंपनी है जिसके नाम 5 गिनीज बुक ऑफ़ वर्ल्ड रिकॉर्ड है।
· कोविड-19 महामारी के बाद से डिजिटल लर्निंग और अपस्किलिंग को प्रोत्साहन देने के लिए यह स्टार्टअप कई सारे रिकॉर्ड तोड़ रहा है।
· अप्रैल और सितम्बर के बीच ऑनलाइन बिजनेस लर्निंग लेशन में 5 रिकॉर्ड बने। इन ऑनलाइन लेशंस को एक साथ 1 करोड़ लोगों ने देखा।
· बड़ा बिजनेस हाल के महीनो में बहुत ज्यादा विकसित हो गया है। कंपनी के 1 लाख पेड सब्स्क्राइबर हो गए हैं।

28 अक्टूबर 2020 Lucknow: इंडियन एजुटेक स्टार्टअप बड़ा बिजनेस ने लॉकडाउन में इतिहास रचकर दुनिया की पहली कंपनी बन गयी है जिसने ऑनलाइन ट्रेनिंग में 5 वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाये है। ये सभी रिकॉर्ड बड़ा बिजनेस द्वारा कोविड महामारी की वजह से लगे लॉकडाउन में एक के बाद एक बने। बड़ा बिजनेस ने भारतीय MSMEs और ट्रेनिंग देने और उन्हें इस संकट से उबारने के लिए अपनी सारी ताकत झोंक दी।

यह रिकॉर्ड तोड़ ऑनलाइन बिजनेस लर्निंग इवेंट प्रसिद्ध मोटिवेशनल स्पीकर और बिजनेस ट्रेनर डॉ विवेक बिंद्रा द्वारा डिलीवर किया गया। विवेक बिंद्रा बड़ा बिजनेस के फाउंडर और सीईओ हैं। इन स्किल बिल्डिंग सेशन में भारत के एंट्रेप्रेंयोरियल कम्युनिटी से बहुत सार लोगों ने हिस्सा लिया और इन सेशंस को एक साथ एक करोड़ लोगों ने देखा।

इन्डियन एजुटेक सेक्टर को वैश्विक मानचित्र पर पहचान दिलाना

बड़ा बिजनेस की स्थापना 2019 में हुई। इस कम्पनी ने अकेले छोटे एंट्रेप्रेंयोर्स के लिए बिजनेस ट्रेनिंग प्रोवाइड करके इस क्रान्ति में एक मिसाल बनी और अब इसने भारत के अनुभवहीन एजुटेक सेक्टर को वैश्विक मानचित्र पर पहचान दिलाई है। बड़ा बिजनेस के ऑनलाइन ट्रेनिंग सेशन में भारी संख्या में लोगों का जुड़ना उनके हर बिजनेस समस्या का निदान करने, इस क्षेत्र में लम्बे समय टिकने और बाउन्स बैक करके वापस पटरी पर आने का सबूत है। कंपनी प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी के ‘आत्मनिर्भर भारत’ के आह्वान पर खरी उतरती है।

बड़ा बिजनेस के फाउंडर और सीईओ डॉ विवेक बिंद्रा ने कहा, “यह हमारे लिए बहुत ही गर्व की बात है कि हमने अपनी उपलब्धियों के जरिये भारत की तेजी से बढ़ती हुई एजूटेक इंडस्ट्री को वैश्विक मानचित्र पर पहचान दी। हम दुनिया की पहली ऐसी कंपनी है जिनके पास 5 वर्ल्ड रिकॉर्ड है। हमने ‘न्यु नार्मल’ में बिजनेसेस को अपने आप मदद करने की जरूरत का अंदाजा लगाने के बाद अप्रैल 2020 में स्किल ट्रेनिंग प्रोग्राम लांच किया था। हमारे पहले बिजनेस ट्रेनिंग सेशन को बहुत सारी प्रतिक्रिया मिली, इस वजह से हम पहला वर्ल्ड रिकॉर्ड जीतने में सफल हो पाये। हर एक

लर्निंग सेशन के बाद और ज्यादा लोग हमारे सेशन से जुड़ते चले गए। हमारा लक्ष्य है कि इस इकोनोमिक संकट के समय भारतीय MSMEsको बड़ी संख्या में इकठ्ठा करके उन्हें विकास के पथ पर अग्रसर किया जाए। हमने अपने बिजनेस स्किल ट्रेनिंग पहल के तहत पिछले 6 महीने में 1 करोड़ लोगों को ट्रेनिंग देने में सफल रहे हैं।”

अप्रैल और सितम्बर के बीच ये 5 गिनीज वर्ल्ड रिकार्ड्स बने और संयोगवश कोविड के बाद के समय में ऑनलाइन लर्निंग में बहुत ज्यादा बढ़ोत्तरी देखने को मिली है। भारत में एजुटेक सेक्टर परंपरागत रूप से K12 लर्निंग और परीक्षा की तैयारी कराने वाले स्टार्टअप का प्रभुत्व है। हालांकि हाल के समय में स्किल और ऑनलाइन सर्टिफिकेशन एजुटेक का प्रमुख डायमेंशन बनकर उभरा है। कोविड-19 महामारी ने इस तरह के एजूटेक सेगमेंट में और बढ़ोत्तरी की है।

कोविड की वजह से प्रभावित भारतीय अर्थव्यवस्था को उबारने के लिए एंट्रेप्रेन्योर्स को सशक्त बनाना

मार्च 2020 में जब 50 दिन का लॉकडाउन लगा तो लाखों ट्रेडिशनल बिजनेस तबाह हो गए। बड़ा बिजनेस ने इन बिजनेस को फिर से खड़ा करने और उन्हें ट्रेन करने का बीड़ा उठाया ताकि ऐसे बिजेनस समय और जरूरत के अनुसार हुए बदलाव भरे संकट में से मजबूती से पार हो पायें। इस लक्ष्य के अंतर्गत बड़ा बिजनेस ने कई वेबिनार और ऑनलाइन ट्रेनिगं सेशन मुख्य रूप से भारतीय MSMEs के लिए आयोजित किया। पहले लॉकडाउन के बाद से अनलॉक प्रक्रिया के तहत धीरे-धीरे रोक में छूट मिलती गयी इस दौरान ऑनलाइन बिजनेस ट्रेनिंग सेशंस ने लाखों बिजनेस करने वाले लोगों को नई बिक्री, मार्केटिंग, न्यु नार्मल के लिए बिजनेस और रिटेल मैनेजमेंट स्ट्रेटजी के तहत ट्रेन किया। इन लर्निंग और अपस्किलिंग वर्कशॉप में लगातार शामिल होना भारतीय एंट्रेप्रेन्योर्स और MSMEs द्वारा बाउंस बैक करने के संकल्प को दर्शाता है।

डॉ बिंद्रा ने आगे कहा, “डाटा से पता चला है कि इस साल के जुलाई तक लगभग 1 करोड़ 90 लाख सैलरी पाने लोगों को अपनी नौकरी से हाथ धोना पड़ा। लाखों बिजनेस ध्वस्त होने के कगार पर हैं। और लाखों जीविकाएं बहुत बुरी तरह से प्रभावित हुई हैं। अर्थव्यवथा के इस बुरे दौर में यह जरूरी हो जाता है कि एन्त्रेप्रेंयोर्शिप के बेड़े को शिक्षित करें, उनकी स्किल को बढ़ाएं, सहयोग करें और छोटे उद्दमियों के साथ-साथ स्टार्ट अप को भी सपोर्ट करें। बड़ा बिजनेस में हम कोशिश कर रहे हैं कि छोटे एंट्रेप्रेन्योर्स की स्किल को बढ़ा के उनके बिजनेस को फिर से नया रूप दें, उन्हें डिजिटल बनाएं और नए बिजनेस नार्मल के लिए उन्हें नई बिक्री तथा मार्केटिंग स्ट्रेटजी से रूबरू कराएँ। हम देश के MSME कम्युनिटी को भारतीय अर्थव्यवस्था को बाउंस बैक कराने के लिए हमारे बिजनेस ट्रेनिंग में हिस्सा लेने हेतु उनका दिल से धन्यवाद करते हैं।

5 वर्ल्ड रिकॉर्ड बने और 1 करोड़ लोग ट्रेन किये गए।

5 बिजनेस ट्रेनिंग सेशन को ‘वर्ल्ड रिकॉर्ड’ का स्टेटस मिला जिसमे वर्ल्ड लार्जेस्ट ऑनलाइन बिजनेस लेशन (24 अप्रैल 2020), वर्ल्ड लार्जेंस्त ऑनलाइन सेल्स लेशन (31 मई 2020), वर्ल्ड लार्जेस्ट ऑनलाइन लेशन ऑन स्ट्रेटजी मैनेजमेंट (27 जून 2020), वर्ल्ड लार्जेस्ट ऑनलाइन इवेंट ऑन ‘हाउ टू स्टार्ट अप’ (15 अगस्त 2020) और वर्ल्ड लार्जेस्ट ऑनलाइन लेशन ऑन रिटेल मैनेजमेंट (27 सितम्बर 2020) शामिल हैं।

ये रिकॉर्ड तोड़ ऑनलाइन लेशन लाखों लोगों तक पहुंचे, उनकी जिंदगियों और जीविका को सकारात्मक रूप से प्रभावित किया। इन वेबिनार को इतना देखा गया है कि कंटेंट को 200 साल के जितना समय वाच टाइम मिला। गौर करने वाली बात यह भी है कि डॉ विवेक बिंद्रा ने सितम्बर 2016 में भी ‘लार्जेस्ट एचआर लीडरशिप कानक्लेव’ को आयोजित करके वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.