reporters
कोविड19 वैक्सीन का टीका पहले चरण में लगेगा स्वास्थ्य कर्मियों को ।

कोविड19 वैक्सीन का टीका पहले चरण में लगेगा स्वास्थ्य कर्मियों को ।


सीतापुर- अनूप पांडेय/NOI-उत्तरप्रदेश जनपद
 सीतापुर सीएमओ ऑफिस के सभागार में कोविड19 वैक्सीनेशन के लिए मास्टर्स ट्रेनर को  प्रशिक्षण दिया गया ।जिले में पहले चरण में सरकारी और निजी क्षेत्र के स्वास्थ्यकर्मियों को कोरोना वैक्सीन (टीका) लगाने की तैयारियां तेज हो गई हैं। इस क्रम में शनिवार को मुख्य चिकित्सा अधिकारी कार्यालय में चिकित्सा प्रभारियों और ब्लाक स्तरीय अधिकारियों को सुरक्षित टीकाकरण के बारे में प्रशिक्षण दिया गया । वैक्सीन के रख रखाव और कोविन एप पर आंकड़ा रखने के बारे में भी बताया गया । इस अवसर पर प्रभारी मुख्य चिकित्सा  अधिकारी डा. पी के सिंह ने वैक्सीन को सुरक्षित रखने और वैक्सीनेशन के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि पहले चरण में हाई रिस्क वाले यानी सभी स्वास्थ्य कर्मियों  को वैक्सीन लगायी जाएगी म दूसरे चरण में उन लोगों को टीका लगाया जायेगा जो कोरोना संक्रमण के दौर में चिकित्सीय सेवाओं में सहयोगी की भूमिका में रहे हैं । तीसरे चरण में 50 साल के ऊपर के लोगों को वैक्सीन दी जाएगी ।जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डा. गौतम  ने बताया –  वैक्सीन लगाने से लेकर उसे रखने तक की व्यवस्था शुरू हो गई है।  तीन कमरों में टीकाकरण केंद्र बनाए जाएंगे। वैक्सीन लगने के बाद 30 मिनट के लिए लाभार्थियों को निगरानी में रखा जाएगा। पहला रूम वेटिंग रूम होगा, जहां पर टीकाकरण कराने वाले लाभार्थियों को बैठाया जाएगा। दूसरा रूम वैक्सीनेशन रूम होगा, जहां पर लाभार्थियों को टीका लगाया जाएगा। यहां पर टीकाकर्मियों की एक टीम जिसमें एक स्टाफ नर्स, एक एएनएम एवं एक वेरीफायर मौजूद रहेंगे। तीसरा रूम ऑब्जरवेशन रूम कहलाएगा, जिसमें टीकाकरण के बाद लाभार्थियों को करीब आधे घंटे तक इस ऑब्जर्वेशन रूम में रहना होगा। 30 मिनट के भीतर अगर टीका लगने वाले किसी लाभार्थी को किसी भी प्रकार की दिक्कत होती है तो उसके लिए एक स्पेशलिस्ट टीम तैनात रहेगी, जो एडवर्स इफेक्ट फालोइंग इम्युनाइजेशन किट के साथ देखरख करेगी, जिसमें डॉक्टर और पैरामेडिकल स्टॉफ को शामिल किया गया है। वैक्सीनेशन के 30 मिनट बाद लाभार्थी घर जा सकेंगे। वेटिंग रूम में इस बात का सबसे ज्यादा ध्यान रखा जाएगा कि मॉस्क और शारीरिक दूरी का पालन कराया जाए। प्रशिक्षक डा. आनंद  ने बताया- टीका लगने से पहले लाभार्थियों को वेटिंग रूम में बैठाया जाएगा। इसके बाद उनके क्रम के अनुसार वैक्सीनेशन (टीकाकरण) होगा। टीकाकरण कार्य के लिए प्रथम चरण में सरकारी अस्पतालों को टीकाकरण केंद्र के रूप में तैयार किया जा रहा है।

डॉ. पीके  सिंह ने बताया कि जिला अस्पताल, जिला महिला अस्पताल सहित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों पर वैक्सीन रखने के लिए विशेष कमरे पहले से तैयार हैं। वैक्सीन लगाने के लिए जिला अस्पताल और महिला अस्पताल के साथ ही जिले के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों को सेंटर बनाया जा रहा है। जिला अस्पताल, महिला अस्पताल में तथा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों पर डीप फ्रीजर तथा आईएलआर की व्यवस्था पहले ही की जा चुकी है।स्वास्थ्यकर्मियों को लगेगा टीकाकोरोना टीकाकरण के लिए कुल डिस्ट्रिक्ट ट्रेनर्स  को प्रशिक्षण दिया जायेगा  जो स्वास्थ्यकर्मियों को प्रशिक्षण देंगे। पहले चरण में जिले में सरकारी स्वास्थ्यकर्मियों और.निजी अस्पताल और क्लीनिक के स्वास्थ्यकर्मियों को  वैक्सीन लगाई जाएगी।  इनका डाटा कोविन पोर्टल पर अपलोड कर दिया गया है। वैक्सीनेशन के पहले लाभार्थियों के हाथ को सेनेटाइज कराया जाएगा। वैक्सीनेशन के दौरान एक बार में केवल एक व्यक्ति की इंट्री होगी। वेटिंग रूम में ही रजिस्ट्रेशन का पूरा ब्योरा चेक किया जाएगा। प्रत्येक लाभार्थी को अपने साथ फोटो पहचान पत्र लाना होगा। जांच के बाद एक-एक करके कोरोना की वैक्सीन लगाई जाएगी। वैक्सीन को सीसीटीवी की निगरानी में रखा जाएगा। विशेष फ्रीजर में वैक्सीन रखी जाएगी।जिला प्रतिरक्षण अधिकारी ने बतायाइस प्रशिक्षण के दौरान जिला वैक्सीन कोल्ड चैन मैनेजर राजेश कुमार सिंह वी सी सी एम EVIN (UNDP) द्वारा कोविंन पोर्टल पर ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करना तथा वैक्सीन को एलोकेट करना  सत्र का संचालन करना  एवं सत्र पर समस्त प्रतिरक्षण के के लिए आए सभी लोगों का  रजिस्ट्रेशन  व  प्रतिरक्षण  कर  मोबाइल ऐप को प्रयोग करना  आदि सभी जानकारी विस्तृत रूप में  दी गई – पहले चरण में शनिवार को परसेंडी, एलिया, लहरपुर, खैराबाद, महमूदाबाद, रेउसा, पिसावां, सांडा, हरगांव, मछरेहटा के सामुदायिक स्वास्थय केंद्र के अधीक्षक, स्वास्थ्य शिक्षा अधिकारी, ब्लाक प्रोग्राम मैनेजर और ब्लाक समुदाय प्रक्रिया प्रबंधक को प्रशिक्षण दिया गया ।  इस अवसर पर  विश्व स्वास्थ्य संगठन और यूनिसेफ के प्रतिनधि उपस्थित थे ।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.