reporters
बालिका दिवस की पूर्व संध्या पर एम्बुलेंस में गूंजी किलकारी, ई. एम. टी. ने कराया सुरक्षित प्रसव, जच्चा-बच्चा महिला अस्पताल में भर्ती ।

बालिका दिवस की पूर्व संध्या पर एम्बुलेंस में गूंजी किलकारी, ई. एम. टी. ने कराया सुरक्षित प्रसव, जच्चा-बच्चा महिला अस्पताल में भर्ती ।


सीतापुर-अनूप पाण्डेय, राकेश पाण्डेय/NOI-उत्तरप्रदेश जनपद सीतापुर। बालिका दिवस की पूर्व संध्या पर जिले की एक इमरजेन्सी मेडिकल टेक्नीशियन (ईएमटी) ने अपने अनुभवों और कार्य कुशलता से सुरक्षित प्रसव कराकर एक नवजात बेटी की जान बचाने में सफलता प्राप्त की।
एम्बुलेंस में ही सुरक्षित प्रसव करा कर जच्चा और बच्चा को सुरक्षित जिला महिला अस्पताल में भर्ती कराया । जिला महिला अस्पताल में जच्चा और बच्चा को सुरक्षित भर्ती कराने पर ईएमटी और पॉयलट की पूरे स्वास्थ्य विभाग में प्रशंसा हो रही है।
प्रदेश सरकार द्वारा संचालित 102 एम्बुलेंस में तैनात कर्मियों व आशा कार्यकर्ता की सक्रियता से प्रसूता व नवजात की जान बच गई। एम्बुलेंस में महिला की हालत नाजुक होती देख ईएमटी ने एम्बुलेंस चालक (पॉयलट) के साथ मिलकर एम्बुलेंस में ही महिला का सुरक्षित प्रसव कराने में सफलता की। जच्चा और बच्चा दोनों पूरी तरह से स्वस्थ हैं, जिन्हें जिला महिला चिकित्सालय में भर्ती करा दिया गया है।
परसेंडी ब्लॉक के बेहदा हरिहरपुर गांव की गुड़िया पत्नी पूरनलाल को प्रसव पीड़ा बढ़ने पर 102 एम्बुलेंस से सम्पर्क किया गया। जिला महिला अस्पताल में खड़ी एम्बुलेंस गुडिया को लेने रवाना हुई। वापस आते समय नैपालापुर चौराहे के थोड़ा आगे बढ़ने पर गुड़िया की हालत बिगड़ने लगी, नाजुक हालात को देखते हुए ईएमटी शोएब हसन ने अपने साथी पॉयलट जफर अहमद से एंबुलेंस को किनारे खड़ी करने को कहा और वह स्वयं अपने अनुभवों का लाभ लेते हुए आशा कार्यकर्ता सुमन देवी व पॉयलट जफर अहमद के सहयोग से गुड़िया को सुरक्षित प्रसव कराने में सफल हुए। ईएमटी शोएब हसन ने बताया कि बच्चा उलटा था, उसका सर फंसा हुआ था और जच्चा तेज प्रसव पीड़ा से तड़प रही थी। ऐसे में यदि हम महिला को अस्पताल तक ले जाते तो उसके साथ ही उसके बच्चे को भी जान का खतरा हो सकता था। इसलिए ट्रेनिंग में मिली जानकारी का उपयोग कर सुरक्षित प्रसव कराया। वह बताते हैं कि शुरूआत में महिला की स्थिति देख कर लग रहा था कि स्थिति नियंत्रण से बाहर होगी। लेकिन हमने धैर्य से काम लिया और प्रशिक्षण में मिली जानकारी काम आई। आखिरकार हम सब एक सफल प्रसव कराने में सफल रहे। एम्बुलेंस सेवा के जिला प्रबन्धक अविनाश पाण्डेय का कहना है, कि मुख्य चिकित्सा अधिकारी सहित अन्य उच्चाधिकारियों से ईएमटी शोएब हसन और पॉयलट जफर अहमद को पुरस्कृत व सम्मानित करने का अनुरोध किया जाएगा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *