reporters
एचडीएफसी बैंक ने सीएससी के साथ साझेदारी की

एचडीएफसी बैंक ने सीएससी के साथ साझेदारी की

· बिज़नेस कॉरेस्पॉन्डैंट्स को देश में सीएससी पर एचडीएफसी बैंक की ईएमआई एकत्रित करने की स्वीकृति देने का अभियान।

लखनऊ ,31 जनवरी, 2021। एचडीएफसी बैंक एवं इलेक्ट्रॉनिक्स एवं आईटी मंत्रालय (माइटी) के तहत स्पेशल पर्पज़ वैहिकल (सीएससी एसपीवी) – सीएससी ई-गवर्नेंस सर्विसेस इंडिया लिमिटेड ने आज संयुक्त रूप से देश में सीएससी-एचडीएफसी बैंक के बिज़नेस कॉरेस्पॉन्डैंट्स के लिए ईएमआई कलेक्शन सर्विसेस की घोषणा की।

इसके द्वारा ग्राहकों को भुगतान करना आसान हो जाएगा और वो अपने नजदीकी सीएससी पर जाकर बकाया राशि जमा कर सकेंगे। सीएससी-एचडीएफसी बैंक कॉरेस्पॉन्डैंट या विलेज़ लेवल एंटरप्रेन्योर (वीएलई) लोन खाते का मिलान ग्राहक के रजिस्टर्ड फोन नंबर सेकर सिस्टम पर देय राशि को जाँच सकेंगे। इसके बाद वीएलई एकत्रित की कई राशि की रसीद प्रदान करेगा और निर्धारित प्रपत्र में राशि बैंक में जमा करेगा।

यह घोषणा डॉक्टर दिनेश कुमार त्यागी, एमडी, सीएससी ई-गवर्नेंस सर्विसेस इंडिया लिमिटेड; श्री दिनेश लूथरा, नेशनल हेड, सीएससी चैनल, एचडीएफसी बैंक एवं श्री देबज्योति दत्ता, हेड-कलेक्शन प्रोसेस (रिटेल पोर्टफोलियो मैनेजमेंट) द्वारा एचडीएफसी बैंक में की गई।

इस साझेदारी के बारे में डॉक्टर दिनेश त्यागी, एमडी, सीएससी ई-गवर्नेंस सर्विसेस इंडिया लिमिटेड ने कहा, ‘‘हमें एचडीएफसी बैंक के साथ अपनी साझेदारी की घोषणा करने की खुशी है। हमारा मानना है कि सीएससी एवं एचडीएफसी बैंक मिलकर ग्रामीण भारत में फाईनेंशल सेवाओं की डिलीवरी में परिवर्तन ला सकते हैं। सीएससी द्वारा ईएमआई कलेक्शन की सुविधा शुरू हो जाने के बाद ग्राहकों को बैंक शाखा जाने की जरूरत नहीं रहेगी और वो ईएमआई अपने नजदीकी सीएससी पर जमा कर अपना समय बचा सकेंगे। इससे देश में ग्रामीण और दूर दराज के इलाकों में स्थित नागरिकों के लिए वित्तीय सेवाओं का विस्तार होगा।’’

इस साझेदारी के बारे में श्री दिनेश लूथरा, नेशनल हेड, सीएससी चैनल, एचडीएफसी बैंक ने कहा, ‘‘इस अभियान के लिए हमें सीएससी के साथ साझेदारी करने की खुशी है। यह हमारे द्वारा चलाए जा रहे सामाजिक कार्यक्रमों के साथ चलेगा, जिनके तहत हम सामाजिक पिरामिड में नीचे स्थित लोगों के बीच वित्तीय साक्षरता, वित्तीय समावेशन और आय निर्माण के कौशल को बढ़ावा दे रहे हैं। इस अभियान के तहत, सीएससी एवं एचडीएफसी बैंक ग्राहकों द्वारा लिए गए लोन की बकाया राशि/नियमित ईएमआई एकत्रित करने के लिए बिज़नेस कॉरेस्पॉन्डैंट द्वारा दी जाने वाली सेवाओं का उपयोग करेंगे। बिज़नेस कॉरेस्पॉन्डैंट ऑटो लोन, टू-व्हीलर लोन, पर्सनल लोन, बिज़नेस लोन एवं सस्टेनेबल लिवलीहुड अभियान जैसे क्षेत्रों में एचडीएफसी बैंक के ग्राहकों के लिए डिपॉजि़ट प्वाईंट का काम करेंगे।’’

सीएससी के साथ एचडीएफसी बैंक की साझेदारी 1 लाख से ज्यादा वीएलई के बैंक के नेटवर्क द्वारा बैंकिंग एवं फाईनेंशल सेवाओं को दूरदराज के इलाकों में रहने वाले लोगों के दरवाजे पर ले जाएगी। इन वीएलई को एचडीएफसी बैंक के शाखा वितरण नेटवर्क द्वारा सहयोग किया जाएगा, जो 30 राज्यों में मौजूद है। यह व्यवस्था ग्रामीण भारत में लाखों लोगों तक औपचारिक बैंकिंग की पहुंच सुनिश्चित करेगी।

कॉमन सर्विसेज़ सेंटर्स के बारे में

कॉमन सर्विसेज़ सेंटर्स (सीएससी) स्कीम डिजिटल इंडिया प्रोग्राम की सफलता सुनिश्चित करने के लिए मुख्य कार्यक्रमों में से एक है। सीएससी जी2सी, शिक्षा, हैल्थकेयर, कृषि एवं वित्तीय सेवाओं की ई-डिलीवरी भारत के गांवों में सुनिश्चित करने के लिए एक्सेस प्वाईंट का काम करते हैं, जिससे समाज में डिजिटल एवं वित्तीय समावेशन लाने में मदद मिलती है। सीएससी का प्रबंधन व संचालन स्थानीय स्किल्ड एंटरप्रेन्योर्स यानि विलेज़ लेवल एंटरप्रेन्योर करते हैं।

सीएससी एसपीवी इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय (माइटी) के तहत एक स्पेशल पर्पज़ वैहिकल (एसपीवी) है, जो सीएससी योजना के कार्य देखता है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *