reporters
कोविड टीकाकरण के नाम पर साइबर ठगों से रहें सावधान।

कोविड टीकाकरण के नाम पर साइबर ठगों से रहें सावधान।

सीतापुर-अनूप पाण्डेय,राकेश पाण्डेय/NOI-उत्तरप्रदेश जनपद सीतापुर कोविड-19 से बचाव के लिए शासन द्वारा स्वास्थ्य और पुलिस विभाग के अधिकारियों व कर्मचारियों के साथ ही फ्रंट लाइन वर्कर्स का टीकाकरण किया जा रहा है। अभी आमजन के टीकाकरण के लिए सरकार व शासन से कोई दिशा-निर्देश जारी नहीं हुए हैं, लेकिन कोविड टीकाकरण के पंजीकरण के नाम पर साइबर ठगों ने ठगी शुरू कर दी है। इससे बचने के लिए स्वास्थ्य विभाग ने जनसामान्य को जागरूक करते हुए सावधान रहने की अपील की है।
अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. पी.के. सिंह ने लोगों को सचेत करते हुए कहा है कि कोविड 19 टीकाकरण के लिए साइबर ठगों द्वारा बनाये गये किसी ऐप में अपना पंजीकरण न करें और न ही किसी को अपने बैंक खाते की कोई जानकारी दें। उन्होंने कहा कि शासन द्वारा आमजन के लिए कोविड 19 टीकाकरण की प्रक्रिया अभी शुरू नहीं की गई है। शासन की ओर से जन सामान्य के लिए कोविड-19 टीकाकरण से सम्बन्धित कोई गाइडलाइन अभी तक जारी नहीं हुई है और जन सामान्य का टीकाकरण अभी नहीं हो रहा है। इसलिए कोई भी कोविड-19 टीकाकरण से सम्बन्धित कोई ऐप डाउनलोड न करें।
कोविड-19 टीकाकरण के प्रथम चरण में हेल्थ केयर वर्कर्स का टीकाकरण किया गया है। दूसरे चरण में आपातकालीन सुविधाओं से जुड़े लोग पुलिस कर्मी राजस्व विभाग नगरीय और ग्रामीण क्षेत्रों से जुड़े स्वास्थ्य कर्मियों का टीकाकरण किया जा रहा है।
मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. मधु गैरोला का कहना है कि कोविड-19 वैक्सीनेशन के लिए फोन पर रजिस्ट्रेशन करवाने की कोई योजना नहीं हैं। वैक्सीन के लिए रजिस्ट्रेशन कराने के नाम पर किसी भी अनजान ऐप, लिंक या ऐसा ही दावा करने वाले किसी भी डिजिटल प्लेटफार्म के झांसे में न आएं। कोई भी अनजान ऐप को डाउनलोड न करें। टीकाकरण के सम्बन्ध में किसी भी प्रकार की कॉल नहीं की जा रही है। सरकार ने इसके लिए कोविन-पोर्टल जारी किया है। जिन लोगों को वैक्सीन दी जानी है,उनकी सूची विभाग के पास है। लोगों को चाहिए कि वह सावधान रहें और किसी भी जानकारी के लिए पास के स्वास्थ्य केन्द्र में संपर्क करें।
क्षवैक्सीन के लिए भीड़ होने की वजह से हैकर्स जल्दी रजिस्ट्रेशन करवाने के नाम पर भी लोगों को शिकार बना रहे हैं। साइबर एक्सपर्ट शशांक श्रीवास्तव बताते हैं कि इस तरह के कई जगह केस सामने आये हैं। लोग पेमेंट कर टीकाकरण के लिये जल्दी रजिस्ट्रेशन करवाने के चक्कर में हैकर का शिकार हो सकते हैं। किसी भी अनजान फोन कॉल करने वाले को अपने बैंक खाते का ब्यौरा, एटीएम कार्ड, क्रेडिट कार्ड या अन्य बैंक सम्बन्धित कोई जानकारी न दें। अगर आपके मोबाइल में कोई ओटीपी नंबर आता है तो उसे शेयर न करें।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *