reporters

लखनऊ की पृष्ठभूमि पर आधारित है काॅमेडी शो ‘और भई क्या चल रहा है?

लखनऊ, 23 मार्च। तीस मार्च से प्रसारित होने वाला शो ‘और भई क्या चल रहा है!‘ लखनऊ की पृष्ठभूमि पर आधारित है। एण्ड टीवी के नये शो ‘और भई क्या चल रहा है? दो परिवारों मिश्रा और मिर्जा की स्लाइस-आॅफ-लाइफ स्टोरी बड़े ही हल्के-फुलके अंदाज में पेश की गयी है। इस शो को अमजद हुसैन शेख के ‘शेड प्रोडक्शंस’ ने प्रोड्यूस किया है। इस शो में सकीना मिर्जा के रूप में आकांक्षा शर्मा, फरहाना परवीन शांति मिश्रा के रूप में, पवन सिंह, जफ़र अली मिर्जा के रूप में और रमेश प्रसाद मिश्रा के रूप में अमरीश बाॅबी के साथ-साथ स्थानीय कलाकार प्रमुख भूमिकाओं में हैं। ‘और भई क्या चल रहा है?’ का प्रीमियर एण्ड टीवी पर 30 मार्च को किया जायेगा और इस शो का प्रसारण सोमवार से शुक्रवार, रात 9.30 बजे होगा।
लखनऊ की पृष्ठभूमि पर बने इस शो में सिचुएशनल काॅमेडी की झलक मिलती है। इस शो में दो अलग-अलग संस्कृति से ताल्लुक रखने वाले परिवार एक ही छत के नीचे रहने को मजबूर हो जाते हंै, उन्हें ना चाहते भी जब हर दिन की छोटी-छोटी परेशानियों को साझा करना पड़ता है और जिनकी पत्नियां एक-दूसरे से ईष्र्या करती हों तो ऐसे में क्या स्थिति बनती है। इस शो में दो परिवारों, मिश्रा और मिर्जा के माध्यम से लखनऊ की वर्षों पुरानी गंगा-जमुनी तहज़ीब को दर्शाया गया है। ये दोनों परिवार एक पुरानी नवाबी हवेली में साथ-साथ रहता है। दोनों ही उस हवेली पर कब्जा करना चाहते हैं। उनमें से कोई उसे एक-दूसरे से बांटना नहीं चाहता है, जिसकी वजह से उनमें हर दिन ही झगड़े होते रहते हैं।
इस शो में पड़ोस में रहने वाली शांति और सकीना के बीच जलन की भावना दिखायी गयी है जो किसी को भी हानि नहीं पहुंचाती। और इनके साथ हैं जोरू के गुलाम जैसे उनके पति राम चंद्र मिश्रा और जफ़र अली मिर्ज़ा। दर्शकों को इस शो में दो परिवारों के इर्द-गिर्द बुनी गयी एक दिलचस्प और मनोरंजन से भरपूर कहानी देखने को मिलेगी। यह परिवार ऐसे हंै जो ‘अच्छे वक्त में सबसे बड़े दुश्मन‘ और ‘बुरे वक्त में सबसे अच्छे दोस्त हैं‘। इतना ही नहीं, इन पड़ोसियों का ‘और भई क्या चल रहा है? के नाम से एक वाॅट्सअप ग्रुप भी है, जिसे लोकल पाॅलिटिकल लीडर की कामवाली चलाती है। इस ग्रुप के जरिये वह मिश्रा और मिर्जा परिवार की पत्नियों को मोहल्ले की ताजी और मसालेदार खबरें देती रहती है। इन खबरों के दम पर ही दोनों महिलाएं एक-दूसरे से आगे निकलने की होड़ करती हैं।
सकीना मिर्जा का किरदार निभा रहीं, आकांक्षा शर्मा कहती हैं, ‘‘ सकीना का मेरा किरदार बिलकुल मेरे जैसा ही है और मैं स्वाभाविक रूप से उससे जुड़ाव महसूस करती हूं। यह लखनऊ शहर की पृष्ठभूमि पर बना एक हल्का-फुलका, मजेदार शो है।’’ जफ़र अली मिर्ज़ा का किरदार निभा रहे, पवन सिंह कहते हैं, ‘‘मिर्ज़ा एक गृहस्थ व्यक्ति है। वह उसी मोहल्ले में अपने पुरखों की एक चाय की दुकान चलाता है। चर्चाओं में बने रहना और मिश्रा परिवार से दो कदम आगे रहना उसे पसंद है। यह कहानी थोड़ी अलग हटकर है और दोनों पड़ोसियों के बीच लगातार लड़ाइयां होती रहती हैं, लेकिन किसी को कोई नुकसान नहीं होता। मिश्रा और मिर्जा परिवार के बीच होने वाली यह रोज-रोज की नोंक-झोंक मजेदार होने के साथ-साथ काफी वास्तविक जान पड़ते हैं।’’
शांति की भूमिका अदा कर रही फरहाना परवीन कहती हैं, ‘‘भले ही मेरे किरदार का नाम शांति है लेकिन जब वह झगड़ना शुरू करती है तो अपने नाम के ठीक उलट हो जाती है। वह बड़बोली, झगड़ालू और सीधी बात करने वाली है। लेकिन अपने पति राम चंद्र मिश्रा को पूरी तरह से अपनी मुट्ठी में रखती है। मैं पूरे पांच साल के बाद, काॅमेडी जोनर में वापसी कर रही हूं और ऐसे में इससे अच्छा शो और क्या हो सकता है।’’ अमरीश बाॅबी उर्फ रमेश प्रसाद मिश्रा कहते हैं,‘‘मैं रमेश प्रसाद मिश्रा का किरदार निभा रहा हूं जोकि एक पान की दुकान चलाता है। यह शहर की नामी दुकान है। वह चाहता है कि शहर में उसके ही नाम के चर्चे हों, लेकिन बीवी के आगे इनकी हो जाती है बोलती बंद। इस कहानी के हर पहलू में वह लखनवी अंदाज नज़र आता है। इसकी कहानी, सारे किरदार, रहन-सहन और बोली सबमें लखनवी झलक मिलती है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *