reporters
समय पर सबको सुविधा शुल्क पहुंचाने के बाद, पानी नहीं तो क्या असली शराब मिलेगी।

समय पर सबको सुविधा शुल्क पहुंचाने के बाद, पानी नहीं तो क्या असली शराब मिलेगी।

सीतापुर-अनूप पाण्डेय,राकेश पाण्डेय/NOI-उत्तरप्रदेश जनपद सीतापुर में सराब के कारोबारियों से सुविधा शुल्क लेकर शराब में पानी मिला कर बेंच रहे है सेल्समैन का कहना है समय पर सबको सुविधा शुल्क पहुंचाने के बाद, पानी नहीं तो क्या असली शराब मिलेगी? यह कहना है, जनपद के थाना हरगांव की पुलिस चौकी झरेखापुर के अन्तर्गत झरेखापुर से सेलूमऊ के रास्ते पर नहर पुलिया के निकट स्थित देशी शराब की दुकान पर तैनात सेल्स मैन विशाल जायसवाल के।
इनके द्वारा दुकान बंद होने के बाद ग्राहकों को शराब की शीशी में पानी मिला कर अतिरिक्त /अधिक रेट पर दारू बेचने का खेल खेला जा रहा है। ग्राहक प्रवीण मिश्र के द्वारा उक्त कृत्य का विरोध करने पर सेल्समैन ने ऐलानिया धमकाते हुए कहा जो करना चाहो कर लो, मैं थाने व आबकारी विभाग को प्रतिमाह कमीशन भेजता हूं। हमारा कुछ न बिगड़ पाओगे, दबी जुबान अन्य ग्राहकों ने भी बताया कि सेल्समैन खुली दबंगई करता है हम लोग मजबूरन खरीद कर सेवन करते है। वही जब ग्राहक प्रवीण मिश्र ने हरगांव थाना प्रभारी से इस सम्बन्ध में शिकायत की, तो थाना हरगांव के प्रभारी ने पल्ला झाड़ते हुए आबकारी अधिकारी से सम्पर्क करने की बात कह कर फोन काट दिया। इस सम्बन्ध में जब ग्राहक ने आबकारी निरीक्षक आरती यादव से उक्त घटना की शिकायत की तो आबकारी निरीक्षक ने टीम भेज कर जांच कराने की बात कही, परन्त घण्टों बीत जाने के बाद आबकारी विभाग की टीम मौके पर नही पहुंचती देख ग्राहक प्रवीण मिश्र ने पुनः आबकारी निरीक्षक से सम्पर्क किया तो आबकारी निरीक्षक ने झल्लाते हुए ग्राहक से कहा “क्युं ज़िंदगी नरक किये हो”। अपना काम करो, जांच करा ली जायेगी।
घंटो चले हाइ वोल्टेज ड्रामे के बाद आबकारी टीम मौके पर पहुंच कर कार्यवाही करने की बात कर खानापूर्ति करते हुए वापस चली गयी। परन्तु कोई संतोषजनक कार्यवाही नहीं हुई।


ऐसे में सवाल यह उठता है, कि ग्राहक को समस्या होने पर आखिर अपनी बात वह किससे कहेगा । जहां एक तरफ वैश्विक महामारी ने लोगों को बेरोजगारी के कगार पर पहुंचा दिया है वही कुछ अधिकारी व व्यापारियों की वजह से लोगों को ठगी का शिकार भी होना पड़ रहा है। अब देखना यह होगा कि ठेका देशी शराब के सेल्समैन के विरुद्ध प्रशासनिक कार्यवाही अमल में लायी जाती है या ग्राहकों को ठगी का शिकार होने के लिए छोड़ दिया जाएगा। कहना यह भी गलत न होगा अगर प्रशासनिक कार्यवाही न कि गयी तो उक्त दबंग सेल्समैन के हौसले और भी बुलन्द हो जाएंगे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *