41 साल बाद हाकी ने ओलम्पिक में काँसा जीता

भारतवासियों की गुरुवार सुबह अच्छी समाचार के साथ हुई है। टोक्यो ओलम्पिक में 5-4 से जर्मनी को हराकर 41 वर्ष बाद भारतीय हॉकी टीम ने कांस्य (ब्रांज) पदक के साथ वापसी की है। इस शानदार वापसी के लिए सोशलमीडिया पर पूरा देश खिलाड़ियों को बधाई दे रहा है।

सेमीफाइनल में मिली हार को दरकिनार करते हुए भारतीय खिलाड़ियों ने वर्ष 1980 के बाद गुरुवार को अपना हौसला और संयम नहीं खोया। हाकी खेल विशेषज्ञों का कहना था कि रियो ओलम्पिक की कांस्य पदक विजेता जर्मनी के विरुद्ध तीसरे चौथे स्थान के प्लेआफ मुकाबले में अपना डिफेंस मजबूत रखना होगा। दुनिया की चौथे नम्बर की टीम भारत को सेमीफाइनल में विश्व चैम्पियन बेल्जियम ने 5-2 से हरा दिया था।

ज्ञात हो कि आठ बार की चैम्पियन रही भारतीय हाकी टीम ने ओलम्पिक में आखिरी पदक 1980 में मास्को में जीता था। इस कांस्य पदक मेडल पाने के बाद भारत देश के स्टार खिलाड़ी और हाकी के जादूगर माने जाने वाले मेजर ध्यानचंद की याद लोगों को आ रही है। ओलम्पिक में हाकी में पदक पाने और पदक देखने को पूरी एक पीढ़ी बदल गई है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

one × 2 =