नई दिल्ली। प्राचीन भारतीय शास्त्रों में कामदेव का उल्लेख प्रेम के देवता के रूप में किया गया है। जीवन में काम को पर्याप्त महत्व देते हुए कुछ मंत्र कामदेव के निमित्त भी बताए गए हैं।
इन मंत्रों के प्रयोग से किसी को भी आकर्षित किया जा सकता है और उसका प्रेम प्राप्त किया जा सकता है। कामदेव के मंत्रों का जाप करने से भौतिक सुख, समृद्धि भी प्राप्त होती है।

कामदेव गायत्री मंत्र
सभी मंत्रों में कामदेव गायत्री मंत्र का विशेष स्थान है। यह व्यक्ति को देवता समान सुंदर बना कर उसे सौभाग्य देता है। कामदेव गायत्री मंत्र के जप करने वाले पूरे विश्व को सम्मोहित कर उससे मनचाहा काम करवा लेने की क्षमता रखते हैं। यह मंत्र निम्न प्रकार है-
‘ऊँ कामदेवाय विद्महे, रति प्रियायै धीमहि, तन्नो अनंग प्रचोदयात‍्।’
अन्य मंत्रों की तुलना में इस मंत्र में विशेष मेहनत करनी होती है। सवा लाख जप पूरा करने से इस मंत्र की सिद्धी होती है। इसके बाद व्यक्ति कल्पना मात्र से ही जिसे भी चाहे, उसे वश में कर सकता है। मंत्र के प्रभाव से वह जहां भी जाता है, वहीं लोग उसका सामीप्य और कृपा पाने के लिए आतुर रहते हैं।

कामदेव शाबर मंत्र
कामदेव गायत्री मंत्र के ही समान कामदेव शाबर मंत्र भी है। इस मंत्र को सिद्ध करने के लिए किसी विशेष विधि-विधान की आवश्यकता नहीं होती। किसी अनुभवी गुरु के मार्गनिर्देशन में केवल मात्र जप करने से ही यह सिद्ध हो जाता है। मंत्र निम्न प्रकार है-
‘ऊँ नमो भगवते कामदेवाय यस्य यस्य दृश्यो भवामि यस्य यस्य मम मुखं पश्यति तं तं मोहयतु स्वाहा।’

इस मंत्र के प्रयोग से व्यक्ति किसी भी स्त्री अथवा पुरुष को वश में कर सकता है। मंत्र के प्रभाव से उसकी सुंदरता, यौन क्षमता तथा बुद्धिमानी भी आश्चर्यजनक रूप से बढ़ जाती है। उसका सभी जगह सम्मान होने लगता है।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.