reporters

अखिलेश यादव ने बड़े-बड़े नेताओं को किया दरकिनार, अपने इस करीबी को दिया मेयर का टिकट


झांसी। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने निकाय चुनाव में बड़े-बड़े नेताओं की सिफारिशों को दरकिनार करते हुए अपने करीबी राहुल सक्सेना को नगर निगम की झांसी सीट से मेयर का टिकट दिया है। ऐसे में मेयर का टिकट हासिल करने की दौ़ड़ में शामिल तमाम सपाइयों और उनको टिकट दिलाने की पैरवी करने वाले नेताओं के अरमानों पर पानी फिर गया है। उधर, टिकट मिलने की घोषणा होने के साथ ही राहुल सक्सेना के समर्थकों ने फिलहाल सोशल मीडिया पर कैंपेन भी शुरू कर दिया है। इसमें उनकी गुटबाजी से दूर रहने वाले निर्विवाद नेता की छवि को निरूपित करने वाला एक नारा भी उछाला जाने लगा है- न लेना न देना, अबकी बार राहुल सक्सेना।

इंदौर से की है एलएलबी

झांसी मेयर का टिकट हासिल करने वाले राहुल सक्सेना मूलरूप से गुरसरांय के रहने वाले हैं। उनकी प्रारंभिक शिक्षा खेर इंटर कालेज गुरसरांय में हुई। इसके बाद उन्होंने पीएमबी गुजराती कालेज इंदौर से पढ़ाई की और फिर इंदौर के ही क्रिश्चियन कालेज से एलएलबी किया। उनके पिता प्रभात सक्सेना भी वकील हैं और वह भी पहले राजनीति में सक्रिय भागीदारी निभाते रहे हैं। राहुल सक्सेना को टीम अखिलेश का सदस्य माना जाता रहा है। उन्हें समाजवादी युवजन की प्रदेश टीम में भी जगह मिली और अखिलेश यादव के मुख्यमंत्रित्व काल में उन्हें झांसी विकास प्राधिकरण का सदस्य भी नामित किया गया।

ये नेता थे टिकट की दौड़ में शामिल

समाजवादी पार्टी में टिकट के दावेदारों की फेहरिस्त लंबी थी। यहां से हरभजन साहू, चंद्र प्रकाश मिश्रा, अर्जुन सिंह यादव, देवीदास कुशवाहा, अजय सूद, महावीर भार्गव, रामगोविंद तिवारी, गुलशन यादव, राजू अनवर, विजय पहारिया और मानसिंह यादव भी शामिल थे। इसके अलावा यह माना जा रहा था कि यहां का टिकट दिलाने में राज्यसभा सांसद चंद्रपाल सिंह यादव, एमएलसी रमा निरंजन के पति आरपी निरंजन, पूर्व विधायक दीपनारायण सिंह यादव, पूर्व एमएलसी श्याम सुंदर सिंह की भूमिका महत्वपूर्ण हो सकती है, लेकिन ऐसा हुआ नहीं। सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने सारी अटकलों पर विराम लगाते हुए अपने करीबी राहुल सक्सेना पर भरोसा जताया है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.