​डाॅ शकील अन्सारी ने राजनीति से लिया सन्यास, अन्य दलों पर लगाया वोट की खातिर नोट बाटने का आरोप।

सरफराज अहमद/नसीम अहमद:NOI।
नानपारा, बहराइच। ए0आइ0एम0आइ0एम0 दल से चुनाव मैदान मे उतरे नगर पालिका परिषद नानपारा से अध्यक्ष पद के प्रत्याषी डाॅ0 शकील अन्सारी ने राजनीति से सन्यास ले लिया है।
उत्तर प्रदेष में हाल ही में हुए वर्ष 2017 के नगर निकाय चुनावों में बहराइच जनपद की नगर पालिका परिषद नानपारा में विभिन्न दलों के प्रत्याषियों की तरह मैदान में उतरे आल इण्डिया मजलिसे इत्तेहादुल मुस्लिमीन दल से अध्यक्ष पद के प्रत्याषी डाॅ0 शकील अन्सारी ने राजनीति से फिरहाल सन्यास ले लिया है, और यह खबर लोगों के बीच काफी चर्चा में है। 2017 नगर निकाय चुनावों के मद्देनजर एक विषेष प्रेस कांफ्रेन्स में नगर पालिका परिषद नानपारा से अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ रहे डाॅ0 शकील अन्सारी से जब उनकी असफलता का कारण पूछा गया तो उन्होंने अन्य दलों पर अपनी भड़ास निकालते हुए वोट की खातिर नोट बाटने का खुला आरोप लगाया, साथ ही उन्होंने आगामी कम से कम पांच सालों तक राजनीति से सन्यास लेने का भी खुलासा किया। उनका कहना है कि अच्छे विचारों के चलते वह सै0 असउद्दीन ओवैसी के दल में शामिल होकर नगर पालिका के माध्यम से स्थानीय जनता की सेवा करना चाहते थे लेकिन अब शायद मतदान की परिभाषा बदल चुकी है, अब जो प्रत्याषी धनबली है उसी के पक्ष में अधिक मतदान होता है, ऐसे में धन की कमी के कारण चुनाव में सफल न हो सके। माहौल खराब होने के कारण अगले पांच सालों तक राजनीति से सन्यास लेने का फैसला किया है। भविष्य में यदि माहौल और लोगों की सांेच में तब्दीली होती है तो वह पुनः राजनीति में आने का विचार बना सकते है। फिरहाल वह पत्रकारिता के माध्यम से गरीब जरूरतमंद आवाम की आवाज बनकर उनकी सेवा करते रहेंगे।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.