लखनऊ,न्यूज़ वन इंडिया-दीपक ठाकुर। मुस्लिम महिलाओं पर तीन तलाक नाम का जो ख़ौफ़ सदियों से चला आ रहा था उसे सुप्रीम कोर्ट ने खत्म कर दिया पर जो उसे भी ना माने उसके लिए सज़ा की बात भाजपा सरकार ले कर आ रही है और तो और ये पूरा मामला भाजपा शासनकाल में ही सुलटता दिखाई दे रहा है जो उन महिलाओं के लिए शुभ समाचार है जो इस तीन तलाक की पीड़ित हैं मगर कांग्रेस इसे लेकर काफी परेशान दिखाई दे रही है।

कांग्रेस की परेशानी की वजह यही है कि भाजपा को इसका श्रेय मिल रहा है जो उसके वोट बैंक पर करारी चोट होगी यही कारण है कि इस मुद्दे पर कांग्रेस अपना पक्ष साफ नही कर पा रही मुह से तो बोल देती है कि वो बिल के साथ है और वो चाहती है कि मुस्लिम महिलाओं का उत्पीड़न भी बन्द हो ऐसा करने वाले को कठोर सजा भी मिले।

लेकिन वो ये भी चाहती है कि इस बिल की स्वीकृति में वो अपना अहम रोल दिखाए ताकि मुस्लिम महिलाओं को लगे कि कांग्रेस उनकी असल शुभ चिंतक है।कांग्रेस इस बिल के मौजूदा स्वरूप को लोक सभा मे तो स्वीकृति दे देती है क्योंकि वहां उसकी संख्या ना के बराबर है पर राज्य सभा मे कांग्रेस उसी बिल में तमाम संशोधन चाह रही है उसकी यही चाहत बिल पास होने में देर कर रही है ये भी कहीं ना कहीं मुस्लिम महिलाओं के विरुद्ध ही जायेगा ये बात कांग्रेस समझ ही नही पा रही है।

तीन तलाक के मुद्दे पर भाजपा का बढ़ता जनाधार कांग्रेस पचा नही पा रही है फिर भी उसका इसतरह का रुख भाजपा को राजनैतिक फायदा पहुंचाने वाला ही नज़र आ रहा है।सीधी सी बात है कि अगर आपको बिल में खामी नज़र आ रही थी तो आप इस पर अपना स्टैंड एक सा ही रखते लोक सभा मे हाँ और राज्य सभा मे ना ये कैसी बात हुई आपकी ये बात ना आम जनता समझ पा रही ना ही वो पीड़िता महिलाएं जिनकी आपकी पार्टी हिमायती बन कर बैठी है।जब वो सब खुश हैं तो आप काहे दुखी हैं बिल के मौजूदा स्वरूप है अरे बिल आने दीजिये दिक्कत हुई तो महिलाओं की बात पर संशोधन भी होगा आप खामखा ही परेशान कर रहे हैं सब को।आपको अगर मुस्लिम महिलाओं के हित का ख्याल होता तो जो आज होने जा रहा है उसे हुए ज़माना हो गया होता।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.