सीतापुर-अनूप पाण्डेय,आजम खान/NOI-उत्तरप्रदेश जनपद सीतापुर में पुनः प्रारम्भ की गयी12460 शिक्षकों की भर्ती हेतु काउन्सलिंग .स्थानीय जिला शिक्षा एंव प्रशिक्षण संस्थान मे लगभग एक वर्ष पूर्व रोकी गयी बेसिक शिक्षा परिषद के 12460 शिक्षकों की भर्ती हेतु काउन्सलिंग सोमवार को पुनः प्रारम्भ की गयी । जिसके चलते स्थानीय डायट केन्द्र पर सुबह से ही गहमा गहमी का माहोल रहा। दूर दराज क्षेत्रो से आए अभ्यर्थी डायट केन्द्र पर एकत्र हुए, व अपनी अपनी काउन्सलिंग कराई ।
उक्त के साक्षेप जिले के बेसिक स्कूलों मे 1263 शिक्षकों की नियुक्ति होनी है । यहां पर यह बताते चले कि उक्त सभी नियुक्तियां पिछले वर्ष होनी थी । 2017 मार्च मे काउन्सलिंग प्रकिया को योगी सरकार ने बीच मे ही रोक दी थी।चूंकि यह भर्ती प्रकिया अखिलेश यादव सरकार के समय की थी, अतः उस प्रकिया को जांच के नाम पर बीच मे ही रोक दिया गया था। अब इधर काफी हो हल्ला के बाद नियुक्ति प्रक्रिया पुनः प्रारम्भ की गयी है ।परन्तु इसमे रोचक तथ्य यह है कि जब गत वर्ष यह प्रक्रिया गतिमान थी तो २१ मार्च दोपहर २ बजे अचानक आदेश आया कि यह काउन्सलिंग अग्रिम आदेशों तक स्थगित की जा रही है । उस समय तक जितने अभ्यर्थियों की पत्रावली जमा हो चुकी थी, उनको को तो रख लिया गया था।शेष को अगली तिथि घोषित होने पर आने को कहा गया था । परन्तु वर्तमान समय मे सरकार का फैसला आया कि उन्ही अभ्यर्थियों की नियुक्ति पर विचार किया जाएगा जिनकी पत्रावलियां पूर्व मे जमा हो चुकी हैं।यहां पर प्रश्न यह है कि जब उस प्रकिया के समय जो लोग वहां पर उपल्थित थे और सरकार का आदेश आने के बाद वापस चले गये वह लोग स्वंय तो गये नही थे फिर उन्हे अवसर क्यों नही दिया गया ।
यहां पर यह भी विदित हो कि उसी समय चार हजार उर्दू शिक्षकों की भर्ती हेतु काउन्सलिंग कराई जा रही थी। परन्तु सरकार का आदेश आने के बाद उनकी भी काउन्सलिंग स्थगित कर दी गई थी। लेकिन जब दोनो की काउन्सलिंग स्थगित की गयी तो पुनः उर्दू शिक्षकों की भर्ती हेतु काउन्सलिंग का आदेश न जारी करना उहापोह की स्थित पैदा किये हुए है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.