अखिलेश ने कहा, सपा की सरकार बनी तो पूर्व प्रधानमंत्री के गांव में बनेगा विश्वविद्यालय और अस्पताल

लखनऊ। समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भाजपा सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि यूपी में अगर सपा की सरकार बनती है। तो वह सबसे पहले पूर्व प्रधानमंत्री और भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी के पैतृक गांव आगरा के बटेश्वर में विश्वविद्यालय और अस्पताल का निर्माण कराएंगे।

अखिलेश ने पार्टी मुख्यालय पर विभिन्न राजनीतिक दलों के नेता व कार्यकतार्ओं को सपा में शामिल करने के बाद मीडिया को संबोधित करते हुए कहा कि पूर्ववर्ती सपा सरकार के काम को पिछले साढ़े चार सालों में अपना नाम दे रही भाजपा ने अपने नेताओं को भी सम्मान नहीं दिया है। इसका प्रत्यक्ष उदाहरण आगरा का बटेश्वर है। जहां भाजपा सरकार ने विकास के बड़े बड़े वादे किये थे लेकिन आज भी बटेश्वर उपेक्षा का शिकार है।

उन्होंने कहा कि सपा सरकार ने अपने पहले कार्यकाल में बटेश्वर में मंदिरों का जीणोर्द्धार कराया। साइकिल पथ बनवाये और उनकी पार्टी अगले साल यूपी की सत्ता संभालने के बाद पूर्व प्रधानमंत्री के पैतृक गांव में विश्वविद्यालय और अस्पताल का निमार्ण करायेगी और गांव को विकास की मुख्य धारा से जोड़ने का काम करेगी।

सपा अध्यक्ष ने आरोप लगाते हुए कहा कि वादा खिलाफी और झूठ बोलने में माहिर भाजपा ने कार्यकाल में सिर्फ रंग और नाम बदले हैं। उसे विश्वविद्यालय का शिलान्यास करने के बजाय झूठ बोलने का प्रशिक्षण केन्द्र बनवाना चाहिये। अपने कार्यकाल के दौरान योगी सरकार ने सिर्फ समाजवादी सरकार के कामों को अपना नाम दिया है। हद तो तब हो गयी जब यह सरकार विदेशों में हुए विकास की तस्वीरों को भी चुरा कर अपना नाम देने की कोशिश कर रही है।

उन्होंने कहा कि अयोध्या में राम मंदिर और विकास के नाम पर सैकड़ों सालों से निवास कर रहे गरीबों के घर तोड़ दिये गये। उनके परिवार आज सड़क पर है। सरकार के इशारे पर गरीबों के घरों में बुलडोजर चलाने वाले अधिकारियों की सूची उनके पास है। उन अधिकारियों के पास मनमानी के लिये सिर्फ चार पांच महीने बचे है। सपा सरकार बनने के बाद उन पर कार्रवाई तय है जबकि गरीबों के उजड़े घरों को फिर से बसाया जायेगा और उनका सम्मान लौटाया जाएगा।

श्री यादव ने कहा सीएम योगी पर निशाना साधते हुए कहा कि कुशीनगर में मुख्यमंत्री ने हाल ही में अपने दौरे में गरीब बच्चों से मुलाकात की थी। उनके दौरे पहले से ही गरीबों को स्थानीय प्रशासन ने साबुन और शैम्पू बंटवाये थे। ऐसा इसलिये किया गया कि बच्चों के शरीर से बदबू न आये। जो मुख्यमंत्री गरीबों के बदन से निकलने वाली दुर्गंध से परहेज करता हो। वह जनता का भला कैसे कर सकता है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

18 − 15 =