28 C
Lucknow
Tuesday, October 19, 2021

महंत नरेंद्र गिरि की आत्महत्या मामले में गिरफ्तार आनंद गिरि की जानें लाइफस्टाइल

लखनऊ। अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष और प्रयागराज स्थित बाघंबरी मठ के महंत नरेंद्र गिरि की आत्महत्या मामले में आनंद गिरि को गिरफ्तार कर लिया गया है। आनंद गिरि का विवादों से पुराना नाता रहा है। वहीं उनकी लाइफस्टाइल भी सामान्य महंत वाली नहीं है।

आनंद गिरि भले ही भगवा कपड़े पहनते हैं लेकिन वे भी काफी महंगे होते हैं। साथ ही महंगी गाड़ियों से घूमना और कीमती मोबाइल रखना उनका शौक है। प्रयागराज में उनके करीबी बताते हैं कि चमचमाती होंडा सिटी उनकी पसंदीदा गाड़ी है। इसके अलावा ऑस्ट्रेलिया में महिलाओं से छेड़छाड़ और हवाई जहाज में शराब के साथ फोटो को लेकर भी काफी विवादों में रहे।

आनंद गिरी को लग्जरी चार पहिया वाहनों के अलावा बुलेट भी प्रसंद है। माघ मेले के दौरान अक्सर उनको बुलेट पर देखा जा सकता था। वह कभी-कभी बुलेट पर स्टंट भी करते नजर आते थे। बताया जाता है कि इस दौरान उनके हाथों में ऐपल कंपनी के दो मोबाइल होते थे। वह जल्दी-जल्दी मोबाइल भी बदलते रहते थे। आनंद गिरि का पिछले वर्ष फोटो वायरल हुआ था। जिसमें वह विमान में बैठे नजर आ रहे थे और सामने होल्डर पर शराब से भरा गिलास रखा था। फोटो वायरल होने के बाद मठ के लोगों ने इस पर एतराज जताया था। जिस पर आनंद गिरि ने सफाई देते हुए कहा था कि उस गिलास में ऐपल जूस था। उनको बदनाम करने के लिए तस्वीर वायरल की गई थी।

आनंद गिरि पर संत परम्परा के खिलाफ अपने परिवार से सम्बंध रखने के भी आरोप लग चुके थे। मंदिर से जुड़े करीबियों के अनुसार आनंद गिरि का रहन-सहन और विवाद कई बार उनके गुरु से मनमुटाव का कारण बने। इसी साल उन पर संत परंपरा का निर्वहन ठीक से न करने और अपने परिवार से संबंध बनाए रखने का आरोप लगा था। इसके बाद उन्हें अखाड़े से निष्कासित कर दिया था। महंत नरेंद्र गिरी और आनंद गिरि के बीच लंबे वक्त से विवाद चल रहा था। माना जा रहा था कि इस विवाद की जड़ बाघंबरी पीठ की गद्दी थी।

आनंद गिरि पर छह साल पहले ऑस्ट्रेलिया के होटल में दो महिलाओं से छेड़छाड़ और मारपीट का भी आरोप भी लगा था। उनके खिलाफ महिलाओं ने शिकायत भी दर्ज कराई थी। हालांकि तब उनके गुरु महंत नरेंद्र गिरि के दखल और वकीलों के मदद से रिहा कराया गया था लेकिन इससे नरेंद्र गिरि ओर बाघंबरी मठ की छवि को काफी नुकसान हुआ। इससे भी नरेंद्र गिरि काफी आहत हुए थे। आनंद गिरि का परिवार आज भी सरेरी गांव में रहता है। आनंद गिरि निरंजनी अखाड़ा का सदस्य थे।

 

 

 

 

Latest news
- Advertisement -spot_img
Related news
- Advertisement -spot_img

Leave a Reply