28 C
Lucknow
Tuesday, December 6, 2022

अतिहिमीकृत वीर्य उत्पादन केंद्र रहमान खेड़ा लखनऊ में दिखी सयुक्त निदेशक राजेंद्र प्रसाद सिंह की बेहतर कार्यशैली

मुर्रा,जर्सी, हरियाणा आदि विभिन्न प्रकार के सांडो के रख रखाव और साफ़ सफ़ाई की बेहतर दिखी व्यवस्था


आशुतोश द्विवेदी , न्यूज़ वन इंडिया

लखनऊ : बेहतरीन और विभिन्न प्रकार के सांडो की जातियों को बढ़ावा देने और उन सांडो से अच्छी नसल को बढ़ावा और गुणों को विकसित करने के लिए विभिन्न प्रकार के सांडो का रख रखाव और साफ़ सफ़ाई का ध्यान रखने के लिए सरकार द्वारा करोड़ों रूपए के बजट पास किया जाता हैं .सरकार का प्रयास अक्सर इन सांडो के वीर्य के मध्यम से बेहतरीन नस्लों की प्रजातियों को तैयार करना है. इन सांडो के वीर्य उत्पादन के लिए उत्तर प्रदेश में महज तीन केंद्र ही मौजूद हैं जहां पर वीर्य उत्पादन का काम चलता है .लेकिन इनमें से सिर्फ दो ही अभी कार्यशील हैं जिसमें से पहला रहमान खेड़ा और दूसरा अन्य जिले में मौजूद हैं. इस वीर्य उत्पादन केंद्रो पर साफ़ सफ़ाई का विषेश ध्यान रखा जाता है. लोगों का बाहर से आना यहां बिल्कुल ही मना होता है, ताकि सांडो तक किसी भी प्रकार गंदगी न जाए जिससे यह लंपी और अन्य बीमारी से बचाया जा सके .इसके साथ ही अंदर मौजूद कर्मचारियों को हाथ सेनोटाइज करके और तमाम तरह से सुरक्षा की इंतजाम के साथ अंदर जाने की बात कहीं जाती हैं . इसी उत्पादन केंद्र में चार डॉक्टरों की टीम मौजूद हैं, जिनका काम इन सांडो की देखभाल करना और सीमन उत्पादन की देखभाल करना है . न्यूज वन इंडिया टीम द्वारा ग्राउड लेवल पर जाके इस उत्पादन केंद्र में साफ़ सफ़ाई और सांडो की देखभाल का जायजा लिया तो संतोषजनक स्थिति दिखी .साथ ही अतिहिमीकृत वीर्य उत्पादन केंद्र के सयुक्त निदेशक राजेंद्र प्रसाद सिंह द्वारा जानकारी देते हुए बताया गया कि यहां पर तमाम नसल के सांड मौजूद जिनकी संख्या कुल 155 हैं. जिनमें जर्सी, हरियाणा आदि विभिन्न प्रकार के की नसल के साड मौजूद हैं. इनसे वीर्य उत्पादन का कार्य किया जाता हैं यह इसमें प्रत्येक सांड से दो दिन छोड़ कर वीर्य उत्पादन किया जाता हैं ताकि उनसे अच्छी और बेहतरीन नसल को बढ़ावा दिया जा सकें । इनकी साफ़ सफ़ाई का विषेश ध्यान दिया जाता हैं और किसी आम इंसान को इस केंद्र में जानें की अनुमती नहीं होती हैं .

क्यों वीर्य उत्पादन केंद्र की स्थापना की पड़ी जरूरत

सरकार का मुख्य उद्देश्य सांडो की अच्छी नस्ल को बढ़ावा देने हैं जिसको लेकर देश भर में तमाम जगहों पर इस प्रकार के केंद्र खोले गए हैं । जिसकी मॉनिटरिंग के लिए केन्द्र सरकार द्वारा टीम गठित की जाती हैं. ऐसे ही उत्तर प्रदेश में तीन वीर्य उत्पादन केंद्र खोले गए हैं जिनमें सिर्फ दो ही कार्य कर रहे हैं . जहां वीर्य उत्पादन किया जाता हैं ताकि अच्छी नस्ल को बढ़ावा दिया जा सकें

साफ़ सफ़ाई और सुरक्षा

अतिहिमीकृत वीर्य उत्पादन केंद्र रहमान खेड़ा लखनऊ में साफ़ सफ़ाई और सांडो की देखभाल का बेहतर इंतजाम देखने को मिला जहां पर हर पल सांडो की देखभाल के लिए कर्मचारियों की मौजूदगी दिखी। साथ ही डॉक्टर भी मौजूद दिखाई दिए . इनमे से दो डॉक्टर सीमन उत्पादन और गुड़वता का ध्यान रखते हैं तो दो डॉक्टर सांडो के स्वास्थ की देखभाल करते हैं

 

Latest news
- Advertisement -spot_img
Related news
- Advertisement -spot_img

Leave a Reply