लखनऊ में बनेगी ब्रह्मोस मिसाइल, पांच हजार लोगों को मिलेगा रोजगार

लखनऊ। देश के रक्षामंत्री व लखनऊ के सांसद राजनाथ सिंह ने मंगलवार को राजधानी लखनऊ में 1710 करोड़ की 180 योजनाओं के लोकार्पण व शिलान्यास किया। इस मौके पर रक्षामंत्री ने कहा कि मैं यहा भाषण नहीं देने आया हूॅ। राजधानी लखनऊ को देश का नबर वन शहन कैसे बने बस यही बात करना चाहता हूं।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि हमने तय किया है कि लखनऊ में ब्रह्मोस मिसाइल बनाई जाएगी। जिससे लगभग पांच हजार लोगों को रोजगार मिलेगा। हमने लखनऊ में हर घर में पीएनजी गैस उपलब्ध कराने का लक्ष्य रखा है। कार्यक्रम के दौरान 396 करोड़ की योजनाओं का शिलान्यास तथा 1314 करोड़ की योजनाओं का लोकार्पण किया गया।

उन्होंने मुख्यमंत्री की तारीफ करते हुए कहा कि योगी आदित्यनाथ अगर यूपी के सीएम नहीं होते तो मैं लखनऊ में इतना काम नहीं कर पाता। दो दिन पहले तमिलनाडु में योगी के कामकाज की तारीफ सुनकर दिल गदगद हो गया। राजनाथ सिंह ने कहा कि आज हिंदुस्तान में 90 फीसद परिवार केंद्र की योजनाओं का लाभ ले रहे हैं। उन्होंने बताया कि अक्टूबर 2022 तक पूरी रिंग रोड बनकर तैयार हो जाएगी। इसमें थोड़ी सी देरी हो गयी है। बस योगी जी अपने तेवर में हो जाये तो यह सब संभव है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि रक्षामंत्री जी के नेतृत्व में 1700 करोड़ की योजनाओं का शिलान्यास और लोकार्पण हुआ है। इसमें से शिलान्यास 396 करोड़ का हुआ, बाकी 1313 करोड़ की योजनाओं का लोकार्पण किया गया है। यह बदलता लखनऊ है। सीएम ने कहा कि यूपी आज दुनिया की छठी अर्थव्यवस्था है। पहले यूपी अराजकता और गुंडागर्दी का शिकार रहा। हर तीसरे दिन दंगा होता था। 2012 से 2017 के बीच सरकारी संपत्ति लूटी जाती थी। 2016 -17 में 14वें स्थान पर था आज हम तीसरे स्थान पर हैं। कोरोना काल में पांच हजार करोड़ की सैमसंग यूनिट स्थापित की और 66 हजार करोड़ का निवेश हुआ। उत्तर प्रदेश देश में नबर दो अर्थव्यवस्था बन गया है।

उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने कहा कि राजनाथ जी और हम सब मिलकर अटल जी के लखनऊ को आगे बढ़ते देख रहे हैं। अटल जी ने जो विकास का सपना देखा था आज वह पूरा हो गया।

ब्रह्मोस मिसाइल परियोजना को पूरा करने के लिए लगभग 300 करोड़ रुपये का निवेश किया जाएगा। सीएम योगी ने इसके लिए एक रुपये लीज पर 250 एकड़ जमीन का इंतजाम किया है। तीन महीने के अंदर सिविल कंस्ट्रक्शन शुरू हो जाएगा। इस परियोजना के माध्यम से लगभग 500 इंजीनियरों और टेक्निशियन को डायरेक्ट और 5,000 लोगों को इन डायरेक्ट रोजगार मिलेगा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

four × 5 =