28 C
Lucknow
Sunday, May 22, 2022

भीषण गर्मी के चलते यूपी, यूके सहित 12 राज्यों में बिजली संकट

नई दिल्ली। देश के कई राज्यों में भीषण गर्मी पड़ रही है। जिसके चलते बिजली की मांग बढ़ गई है। लेकिन राज्यों को मांग के मुताबिक बिजली नहीं मिल पा रही है। वहीं दूसरी तरफ से खबर आ रही है कि देश में कोयला की कमी है। ऐसे में आने वाले समय में बिजली का संकट और बढ़ सकता है।

भीषण गर्मी के चलते उत्तर प्रदेश, राजस्थान, मध्य प्रदेश, पंजाब, हरियाणा, उत्तराखंड, बिहार, झारखंड, बिहार, झारखंड, महाराष्ट्र, गुजरात, कर्नाटक और आंध्र प्रदेश में लोगों को बिजली संकट का सामना करना पड़ रहा है। जानकारी के मुताबिक, भारत में पिछले हफ्ते 623 मिलियन यूनिट बिजली की शॉर्टेज हुई है। यह पूरे मार्च महीने में हुई शॉर्टेज से कहीं ज्यादा है।

लगातार बढ़ती गर्मी के चलते बिजली की मांग भी बढ़ती जा रही है, ऐसे में थर्मल प्लांट पर और ज्यादा दबाव पड़ रहा है। इसके अलावा कुछ राज्यों द्वारा कोयला कंपनियों को भुगतान में देरी की वजह से भी कोयला आपूर्ति प्रभावित हुई है। भारत में गुरुवार को बिजली की मांग 201 गीगावाट तक पहुंच गई। वहीं, इस दौरान देशभर में 8.2 गीगावाट की कमी भी दर्ज की गई। बताया जा रहा है कि आने वाले समय भारत में बिजली संकट और गहरा सकता है।

देश के झारखंड में सबसे ज्यादा बिजली संकट का है। झारखंड में कुल बिजली डिमांड में से 17.3 प्रतिशत शॉर्टेज हुई। एक सीनियर अधिकारी ने बताया कि झारखंड में कोयले की कमी के पीछे की वजह कोल कंपनियों के भुगतान में देरी है। यहां तक कि झारखंड कोयले के पुराने बिल को भी नहीं चुका रहा है। वहीं, जम्मू कश्मीर और लद्दाख में 11.6 प्रतिशत शॉर्टेज रही। इसके अलावा राजस्थान को 9.6 प्रतिंशत, हरियाणा को 7.7 प्रतिशत, उत्तराखंड को 7.6 प्रतिशत, बिहार को 3.7 प्रतिशत बिजली शॉर्टेज का सामना करना पड़ रहा है।

देश में बिजली संकट पर केंद्रीय कोयला मंत्री प्रह्लाद जोशी ने कहा कि रूस से गैस की आपूर्ति ठप हो गई है। हालांकि, थर्मल पावर प्लांट में 21 मिलियन टन कोयले का स्टॉक है। जो दस दिन के लिए काफी है। कोल इंडिया को मिलाकर भारत के पास कुल 30 लाख टन का स्टॉक है। यह 60 से 70 दिन का स्टॉक है। हालांकि, वर्तमान स्थित स्थिर है। उन्होंने बताया कि वर्तमान में 2.5 बिलियन यूनिट की दैनिक खपत के मुकाबले लगभग 3.5 बिलियन यूनिट बिजली का उत्पादन होता है। लेकिन पिछले दिनों में गर्मी के साथ-साथ बिजली की मांग भी बढ़ी है। हमारे पास 10-12 दिनों का कोयला स्टॉक है। हालांकि, उसके बाद भी पावर प्लांट बंद होने की कोई संभावना नहीं है।

 

Latest news
- Advertisement -spot_img
Related news
- Advertisement -spot_img

Leave a Reply