जज दलवीर भंडारी चुनें गए अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश, जानें सच्चाई

 

नई दिल्ली। न्यायमूर्ति दलवीर भंडारी को अंतरराष्ट्रीय न्यायालय का मुख्य न्यायाधीश चुनें जाने की खबर वायरल हो रही है। जिसके बाद दलवीर भंडारी को सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स से बधाइयों का ताता लग गया। इतना ही नही बधाईयों का दौर ऐसा चला कि दिल्ली व अमेरिका में रह रहे उनके परिजनों तक पहुंच गई। जज दलवीर भंडारी ही नही उनके परिजन और रिश्तेदार जवाब देते-देते परेशान हो गए है।

दरअसल, किसी ने दलवीर भंडारी के अंतरराष्ट्रीय न्यायालय में जज चुने जाने के मैसेज को ही एडिट करके बतौर चीफ जस्टिस चुने जाने का मैसेज वायरल कर दिया था। उस वक्त संयोग से ही जज भंडारी मंगलवार को जोधपुर में ही थे। जिसके बाद भंडारी मंगलवार दोपहर ही दिल्ली निकल गए।

बात दें कि वायरल मैसेज में कहा गया कि भारत के लिए गर्व का क्षण न्यायमूर्ति दलवीर भंडारी को अगले 9 वर्षों के लिए अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय का मुख्य न्यायाधीश चुना गया है। उन्हें 193 में से 183 वोट मिले। ग्रेट ब्रिटेन इस पद पर 71 वर्षों से था।

जानकारी के अनुसार, नीदरलैंड के हेग स्थ‍ित अंतरराष्ट्रीय अदालत में भारतीय जज दलवीर भंडारी दूसरी बार नवंबर 2017 में जज चुनें गए थे। वह 2026 तक इस पद पर बनें रहेंगे। उनका सीधा मुकाबला ब्रिटेन के उम्मीदवार जस्टिस क्रिस्टोफर ग्रीनवुड से था। जिसमें वह 193 वोटों में से 183 वोट मिले थे। सुरक्षा परिषद के भी सभी 15 मत मिले थे।

बता दें कि अंतरराष्ट्रीय न्यायालय में मुख्य न्यायाधीश नहीं होता है। बल्कि उसे सभापति या अध्यक्ष कहा जाता है। वहीं ग्रेट ब्रिटेन इस पद पर 71 वर्षों से था। अब ICJ में ब्रिटेन का कोई जज नहीं है। वहीं भारत के यह अकेले जज है।

दलवीर भण्डारी इससे पहले अन्तरराष्ट्रीय न्यायालय में न्यायाधीश के तौर पर 27 अप्रैल 2012 को निर्वाचित हुए थे। जज दलवीर भंडारी भारत के वर्ष 2005 में सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीश बनें। वह बॉम्बे हाईकोर्ट के पूर्व मुख्य न्यायाधीश और दिल्ली उच्च न्यायालय के न्यायाधीश भी रहे हैं। दलवीर भंडारी का जन्म 1 अक्टूबर 1947 हो हुआ था।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ten + 12 =