पेनियरबाय ने नियोदुकान लॉन्च की; इसका लक्ष्य 2025 तक 100 मिलियन रिटेलर्स को आधुनिक बनाना है।

मुंबई, : देश भर में रिटेल सेक्टर को बड़े पैमाने पर आधुनिक बनाने के प्रयास में, भारत के प्रमुख ब्रांचलेस बैंकिंग और डिजिटल पेमेंट्स नेटवर्क, पेनियरबाय ने रिटेलर्स एसोसिएशन स्किल काउंसिल ऑफ इंडिया (आरएएससीआई) के साथ साझेदारी में “पेनियरबाय नियोदुकान” लॉन्च की है। अपने रिटेल पार्टनर्स को डिजिटल रूप से अपग्रेड करने और उन्हें बेहतर ढंग से अपनी आजीविका कमाने हेतु तैयार करने के लिए यह शुरुआत की गई है। पेनियरबाय नियोदुकान अपनी तरह का पहला समग्र स्टोर मैनेजमेंट टूल है। इसका उद्देश्य रिटेल स्टोर्स को डिजिटाइज करना और आखिरी छोर तक डिजिटल प्रक्रिया अपनाने के लिए सभी रिटेलर्स को प्रेरित करना है। पेनियरबाय नियोदुकान डिजिटल पेमेंट के कई विकल्पों के साथ, क्रेडिट मैनेजमेंट के लिए डिजिटल लेजर और थोक में ऑनलाइन खरीद के विकल्पों के लिए अपने रिटेल पाटर्नर्स को डिजिटल रूप से सशक्त बनाना चाहता है। इसी के साथ कारोबारियों को मौजूदा समय में सुविधाजनक ढंग से व्यापार करने की सुविधा देकर पेनियरबाय नियोदुकान की नजर फलता-फूलता इकोसिस्टम बनाने पर है।

भारत में रिटेल व्यापार विकसित हो रहा है, रिटेलर्स नहीं। भारत में रिटेल कारोबार सबसे बड़ी इंडस्ट्री है, जो देश की जीडीपी में 10 फीसदी से अधिक का योगदान देती है और 8 फीसदी लोगों को रोजगार देती है। हालांकि, अपने बड़े आकार के अलावा यह क्षेत्र स्थानीय स्टोर्स और वेंडर्स के कारण काफी हद तक असंगठित रहा है। इस बदलते परिदृश्य में जीत हासिल करने के लिए स्‍थानीय रिटेलर्स को भी बदलने की जरूरत है। अगर उपभोक्ताओं के नजरिए से देखा जाए तो यह बेहद जरूरी है। उपभोक्ताओं की कई तरह की जरूरतों को पूरा करने के लिए रिटेलर्स को अपडेट होना ही होगा। पेनियरबाय इन रिटेल आउटलेट्स को पूरी तरह बदलने और उन्हें भविष्य के लिए तैयार करने में जुटा है। कंपनी ने 17,600 से ज्यादा पिनकोड पर 38 लाख से ज्यादा रिटेलर्स को अपनी मजबूत ऑनलाइन मौजूदगी दर्ज कराने में सक्षम बनाया है। इस तरह पेनियरबाय यह सुनिश्चित करता है कि तेजी से बदलती डिजिटल दुनिया में छोटी और लोकल दुकानें पीछे न छूट जाएं।

आज सभी स्टोर्स के पास डिजिटल पेमेंट के लिए डिजिटल फॉर्मेट होना बेहद जरूरी है। यह पूरी तरह से नया प्लेटफॉर्म रिटेलर्स को बड़े पैमाने पर भुगतान की सुविधा उपभोक्ताओं को देने में सक्षम बनाएगा। यह स्थानीय समुदाय से सबंधित कस्टमर्स को यूपीआई, क्यूआर, आधार पे, एमपीओएस और सॉफ्टपीओएस से प्रॉडक्ट और सर्विसेज से पेमेंट करने की सुविधा प्रदान करेगा। यह विकल्प लागत प्रभावी और काफी किफायती है। इसे आसानी से अमल में लाया जा सकता है। रिटेलर्स को अपने कस्मटर्स को भुगतान के सीमित विकल्पों के कारण नहीं खोना पड़ेगा। इससे खुदरा व्यापारी बिना किसी रुकावट के अपने कस्टमर्स को डिजिटल फाइनेंशियल सर्विसेज प्रदान कर सकेंगे। पेनियरबाय नियोदुकान अपने उपभोक्ताओं के सामने तरह-तरह के विकल्प पेश करने और देश में कारोबार के क्षेत्र में डिजिटल प्रक्रिया को अपनाने में तेजी लाने में मदद करेगा। यह खासतौर से उन क्षेत्रों में रिटेलर्स की मदद करेगा,जहां बैंकिंग की सुविधाएं काफी कम हैं। इससे विभिन्न प्रॉडक्ट्स और सर्विसेज के लिए नकद पैसा देने और कैश से होने वाले ट्रांजेक्शन में कमी आएगी। इसके अलावा यह व्यवस्था कोरोना महामारी के प्रकोप को देखते हुए उपभोक्ताओं को सुरक्षित और बिना किसी के संपर्क में आए भुगतान करने के काबिल बनाएगी। इसका उद्देश्य डिजिटल पेमेंट का लोकतांत्रिकरण करना है। इससे डिजिटल पेमेंट की सुविधा दूरदराज के क्षेत्रों में रहने वाले लोगों को मिलना सुनिश्चित किया जाएगा, जिससे डिजिटल ट्रांसजेक्शन कैश से किए जाने वाले लेनदेन की तरह आसान और सहज बन सके।

टियर-2 और टियर-3 के शहरों और कस्बों में किया जाने वाला रोजाना का बिजनेस उधार पर चलता है। इससे रिटेलर्स को फिजिकल रूप से बहीखाता बनाने और उसमें संतुलन बनाए रखने के लिए काफी मेहनत करनी पड़ती है। खुदरा विक्रताओं को पारंपरिक रूप से बही खाता मेंटेन करने की आदत होती है। अब नियोदुकान कस्टमर की उधारी का हिसाब-किताब प्रभावी ढंग से रखने के लिए, डिजिटल लेजर और कस्टमर खाता की सुविधा प्रदान करने में रिटलर्स की मदद करेगा। ज्यादा सुरक्षा देने के साथ कस्टमर खाता रिटेलर्स को डिजिटल बनाने में भी मदद करेगा। इससे वह अपने सारे अकांउट्स ऑनलाइन देख करते हैं। कस्टमर खाता के साथ रिटेलर्स अपने सभी ट्रांजेक्शन को डिजिटली रेकॉर्ड कर सकते हैं। उपभोक्ताओं के लिए ऑटोमैटिक पेमेंट रिमाइंडर सेट कर सकते हैं, ताकि समय पर उपभोक्ताओं से बकाया पेमेंट कलेक्ट किए जा सकें और इस संबंध में बनाई गई रिपोर्ट को भी देख सकें।

इसके अलावा बहुत से छोटे कारोबरियों का सप्लाई मैनेजमेंट अच्छा नहीं होता। इसके अलावा उन्हें माल की सप्लाई के लिए ज्यादा कीमत चुकानी पडती है, जो थोक बाजार में रेट से काफी ज्यादा होती है। इससे उन्हें नुकसान उठाना पड़ता है। रिटेलर्स को इस समस्या से निजात दिलाने में मदद देने के लिए पेनियरबाय नियोदुकान एग्रीगेटर प्लेटफॉर्म के रूप में काम करेगा, जहां रिटेलर्स की काफी आसानी से थोक खरीद के विकल्पों, जैसे बिग बास्केट, आईटीसी और उन्नति आदि सभी जगहों तक आसान पहुंच बनेगी। इस समय कोई दूसरी कंपनी एक ही प्लेटफॉर्म पर थोक में सामान की खरीद का ऑफर नहीं दे रही है। संचालन में प्रभावी होने के अलावा यह ऐप रिटेलर्स को समय पर और प्रतिस्पर्धी कीमतों पर समय पर माल की डिजिटल ढंग से खरीद में रिटेलर्स को सक्षम बनाएगी ।

इस अवसर पर पेनियरबाय के एमडी और सीईओ श्री आनंद कुमार बजाज ने टिप्पणी करते हुए कहा, “हम जिंदगी में अपने रिटेल पार्टनर्स के लगातार विकास में मदद के लिए पेनियरबाय नियो दुकान ऐप पेश कर बेहद उत्साहित हैं। भारत में रिटेलिंग हमारे सामाजिक-आर्थिक ढांचे का मजबूत स्तंभ है। रिटेलर्स के स्थानीय समुदाय के साथ काफी गहरे संबंध होते हैं। भारत के तेजी से विकास करने के लिए यह जरूरी है कि रिटेलर्स को जरूरी मदद और साधन उपलब्ध कराए जाएं, ताकि तेजी से बदलती अर्थव्यवस्था के युग में उनकी प्रासंगिकता बनी रह सके। पेनियरबाय नियो दुकान एक ऐसा ही प्रयास है, जो वित्तीय रूप से समग्रता का लाभ देते हुए रिटेलर्स की आर्थिक भलाई और बेहतरी के लिए प्रतिबद्ध है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

four × two =