28 C
Lucknow
Thursday, October 28, 2021

गांव गरीब का विकास ही सरदार पटेल का सपना था- स्वतंत्र देव

पंचायत प्रतिनिधि प्रशिक्षण एवं सम्मान समारोह आयोजित
525 प्रधानों के साथ जिला पंचायत सदस्य एवं सभासद हुए शामिल

लखनऊ 10 अक्टूबर। सरदार पटेल बौद्धिक विचार मंच के तत्वाधान में पंचायत सभागार लखनऊ में एक ”पंचायत प्रतितिनधि प्रशिक्षण एवं सम्मान समारोह” का आयोजन किया गया। प्रशिक्षण कार्यक्रम में लखीमपुर खीरी , हरदोई, प्रतापगढ़, बाराबंकी, सीतापुर, रायबरेली एवं बांदा जिलों के 525 प्रधानों, जिला पंचायत सदस्यों , ब्लाक प्रमुखों एवं सभासदों ने भाग लिया। कार्यक्रम के समापन समारोह के मुख्य अतिथि स्वतंत्र देव सिंह प्रदेश अध्यक्ष, भाजपा ने कहा कि गांव गरीब का विकास ही सरदार पटेल का सपना था। मौजूदा केन्द्र एवं राज्य सरकारों द्वारा किसानों के उत्थान के लिए प्रभावी कदम उठाये गये है। उन्होंने किसान सम्मान निधि, जनधन योजना, उज्जवला योजना एवं मुफ्त शौचालय योजनाओं के बारे में विस्तृत जानकारी दी इसके साथ ही उन्होनें पंचायत प्रतितिनधियों को संपर्क, संवाद और प्रवास की योजना पर कार्य करने के लिए प्रेरित किया। इससे पूर्व कार्यक्रम का उद्घाटन अरूण कुमार सिन्हा आईएएस एवं सदस्य उ.प्र. अधिनस्थ सेवा चयन आयोग ने किया। उन्होंने कहा कि ग्राम प्रधान, पंचायत सदस्य, ब्लाक प्रमुख एवं सभासद लोकतंत्र की रीढ़ है। इस प्रशिक्षण कार्यक्रम के माध्यम से ग्राम पंचायतीराज अधिनियम के बारे में जानकारी देते हुये इं. अवनीश कुमार सिंह विधान परिषद सदस्य ने पंचायत प्रतितिनधियों के दायित्वों एवं अधिकारों के बारे में बताया। कार्यक्रम के दूसरे सत्र की अध्यक्षता कर रहे एडवोकेट राकेश कुमार चौधरी , अध्यक्ष अवध बार एसोसियेशन ने कहा कि 120 वर्षों के इतिहास में पहली बार आरक्षित वर्ग का अधिवक्ता बार एसोसियेशन का अध्यक्ष बना है। विवेक गंगवार पूर्व राज्य सलाहकार विषश्वबैंक एवं पंचायती सत्र विशेषज्ञ ने ग्राम प्रधान के चुनाव से लेकर ग्राम पंचायत संबंधी विभिन्न नियमों के बारे में विस्तृत जानकारी दी। जनप्रतिनिधियों की आंशकाओं का समाधान भी उनके द्वारा किया गया। मुनीश गंगवार, पूर्व महाप्रबंधक, नेबार्ड ने सहभागिता के आधार पर गॉंव के विकास के बारे में प्रकाश डालते हुये कहा कि गांव में उपलब्ध संसाधनों के आधार पर सहभागिता के साथ विकास योजनाओं को बनाया जाये एवं सभी सरकारी विभागों से तालमेल कर विकास योजनाओं को लागू किया जाये। उन्होंने समय समय पर इसके मूल्यांकन पर भी जोर दिया।
कार्यक्रम में डा. क्षेत्रपाल गंगवार पूर्व अध्यक्ष उ.प्र. माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन आयोग, वी. आर. वर्मा पूर्व डीआईजी (जेल), उमेश कुमार सिंह संस्थापक सदस्य एवं महामंत्री फिक्की, सुभाष पटेल पूर्व मेयर एवं पूर्व विधायक बरेली, जगदीश शरण गंगवार महामंत्री बौद्धिक मंच ने भी अपने अपने विचार व्यक्त किये। संचालन योगेन्द्र सचान द्वारा किया गया। इस दौरान कुशाग्र वर्मा, आकाश वर्मा, आलोक वर्मा आदि ने आगन्तुको को धन्यवाद दिया।

Latest news
- Advertisement -spot_img
Related news
- Advertisement -spot_img

Leave a Reply